जल्द ही मिलेगा बद्रीनाथ और औली में याक के साथ सेल्फी लेने का मौका

0
1743

उत्तराखंड में दूर-दराज़ से आने वाले पर्यटक जहां एक तरफ यहां की विशाल प्राकृतिक और आध्यात्मिक सुंदरता की अनुभूति करते हैं वहीं अब उनके लिए यहां एक अतिरिक्त आकर्षण है।आने वाले समय में यहां आने वाले पर्यटकों को याक्स के साथ सेल्फी क्लिक कराने का मौका मिल सकता है।

अगर आने वाले समय में चीजें ठीक होती हैं तो, पांच से लेकर 10 लंबे विदेशी बालों वाले यह जानवर, जिन्हें स्नो कैमल यानि कि बर्फ के ऊंट के रूप में जाना जाता है, शिमला से उत्तराखंड लाऐ जाऐंगे। जहां वे आसपास के लोगों को घूमाने के लिए उपयोग किए जाएंगे। याक्स उत्तराखंड में सबसे पहले चामोली जिले के बद्रीनाथ और औली में देखने को मिलेंगे क्योंकि यह दोनों ही जगह ऊंचाईं में स्थित हैं और पहाड़ी जानवरों के लिए उपयुक्त हैं।

Representative Image

राज्य पर्यटन विभाग ने पशुपालन विभाग को यह सुनिश्चित करने के लिए इस बात से अवगत कराया है कि यह योजना सफल रहे। “पर्यटन सचिव दिलीप जावेलकर ने कहा कि “शिमला में कुछ ब्रीडर से बात की है और शुरुआत में 5 से 10 याक को खरीदनें की योजना है,मुझे आशा है कि वे उत्तराखंड के पर्यटकों के आकर्षण में बढ़ोतरी करेंगे।”

याक्स 3000 मीटर या उससे अधिक की ऊंचाई पर हिमाचल प्रदेश के किन्नौर और लाहौल, लद्दाख और तिब्बत में पाए जाते हैं।यह उत्तराखंड के जानवर नहीं है, केवल एक दर्जन प्रजातियां चमोली के लता इलाके में सरकारी खेतों में स्थित हैं।

लता खेत में रहने वाले याक्स को गर्मियों में द्रोणागिरि के लिए स्थानांतरित कर दिया जाता है और इन जानवरों को ज्यादा भीड़-भाड़ और इंसानी बस्तियों में रहने के लिए आदत नहीं है।

पिथौरागढ़ जिले के मुंसियारी इलाके के एक और याक रेज़िंग सेंटर है, जो रलाम और पातो गांवों में स्थित है। विज्ञान और प्रौद्योगिकी विभाग, भारत सरकार और वर्ल्ड वाइल्डलाइफ फंड (डब्ल्यूडब्ल्यूएफ) की मदद से, गैर-सरकारी ट्रस्ट, हिमल प्रज्ञा के तत्वावधान में इसे 1996 स्थापित किया गया था।

“मुख्य पशु अधिकारी लोकेश कुमार (सीवीओ), चमोली ने कहा “हम लोगों को रोज़गार के अवसरों कराने में मदद करने के लिए स्थानीय लोगों को याक देंगे। शिमला और सिक्किम में जिस तरह से याक की सवारी की सुविधा है हम कुछ वैसा हम यहां भी करने वाले हैं याक मालिकों द्वारा लगाए गए शुल्क के बारे में पता किया जा रहा जिससे उत्तराखंड में भी याक की सवारी का मौका पर्यटकों को मिल सके।”

जब चारधाम यात्रा शुरू होगी और गर्मी के दौरान याक को बद्रीनाथ में रखा जाएगा और सर्दियों में उन्हें औली ले जाया जाएगा। पर्यटन विभाग याक की सुविधा के लिए औली में व्यवस्था कर रहा है।

ऐसा माना जाता है कि, बद्रीनाथ मंदिर में भगवान विष्णु की मूर्ति को हवा करने के लिए इस्तेमाल में आने वाला झुब्बा (एक बालों वाले पंखे) को बनाने के लिए याक के बालों का इस्तेमाल किया जाता है। हिंदू पौराणिक कथाओं के अनुसार, स्वर्गी में प्रवेश करने से पहले पांडव का आखिरी पड़ाव माणा, तिब्बत के साथ सीमा पर स्थित भारत का अंतिम गांव, बद्रीनाथ मंदिर से तीन किलोमीटर दूर था। यह माना जाता है कि पांडव याक पर सवारी करके वह गांव तक पहुंचे थे।