बर्फबारी की मार : चमोली जिले के सौ गांव अभी भी अंधेरे में

0
257
गोपेश्वर,  एक सप्ताह से उपर का समय गुजर गया है लेकिन चमोली जिले के 98 गांवों में अभी भी विद्युत आपूर्ति सुचारु नहीं हो पायी है। इसमें अधिकांश गांव जोशीमठ ब्लाॅक के हैं जो अभी भी अंधेरे में डूबे हुए हैं। हालांकि विद्युत विभाग बर्फबारी से टूटे विद्युत तारों व पोलों को जोड़ने के लिए दिन रात मशक्कत में लगा है। लेकिन भारी ठंड व बर्फ के कारण काम करने में परेशानी हो रही है।
चमोली जिले में 11 से 13 दिसम्बर तक वर्षा व भारी हिमपात हुआ था जिससे चमोली जिले के 135 से अधिक गांव हिमाच्छादित हो गये थे। अधिकांश सड़कों के साथ ही जोशीमठ ब्लाॅक के सभी सभी गांवों में विद्युत आपूर्ति बाधित हो गई थी। जिले के अन्य विकास खंडों के कई गांवों में विद्युत आपूर्ति बाधित हुई थी। जोशीमठ विकास खंड तों सात दिनों तक अंधेरा पसरा रहा जिसे 18 दिसम्बर को ठीक कर दिया गया। अभी भी जोशीमठ विकास खंड के 89 गांवों में विद्युत आपूर्ति बहाल नहीं हो पायी है। गैरसैंण विकास खंड के एक, थराली के एक, घाट के तीन व दशोली विकास खंड के चार गांवों में अभी भी विद्युत लाइन ठीक नहीं हो पायी है।
जोशीमठ विकास खंड के अधिकांश गांव हिमाच्छादित है। शुक्रवार से मौसम भी करवट बदल रहा है, शनिवार को दोपहर तक मौसम ठीक-ठाक था लेकिन अपराह्न बाद तेज अंधड शुरू हो गई है। आसमान में काले बादल छाने लगे हैं जिससे बारिश व बर्फवारी के आसार बन रहे हैं। चमोली जिले के 98 गांवों में अभी विद्युत आपूर्ति बहाल नहीं हो पायी है। सबसे ज्यादा जोशीमठ ब्लाॅक के गांव 89 गांवों में विद्युत आपूर्ति ठप है। जिस पर कार्य चल रहा है। शनिवार सायं तक जोशीमठ के अधिक से अधिक गांवों में विद्युत आपूर्ति बहाल कर दी जायेगी।