रक्षाबंधन : बहना ने भाई की कलाई पर बांधा प्यार का बंधन

0
204

बहन और भाई के स्नेह का पर्व रक्षाबंधन नगर में हर्षोल्लास के साथ मनाया गया। इस मौके पर बहनों ने भाइयों की कलाई पर प्रेम भरा धागा बांध कर पर्व के पवित्र रस्म को निभाया। भाइयों ने अपनी बहनों को ढेरों उपहार भी दिए।

रक्षाबंधन का पर्व भाई-बहन के संबंधों की पवित्रता का प्रतीक माना जाता है। इस त्योहार के मौके पर बहन अपने भाई की आरती उतार कर राखी बांधती है। इसी राखी के महत्व को समझते हुए भाई भी बहन के रक्षा की शपथ लेता है। साथ ही बहन को उपहार भी देता है। हर वर्ष की तरह इस वर्ष भी रक्षाबंधन पर्व के मौके पर पूरे दिन राखी बांधने और उपहार भेंट करने का सिलसिला जारी रहा। इस मौके पर सुदूर रहने वाली बहनों के पास पहुंच कर भाइयों ने राखी बंधवाने की रस्म पूरा किया। भाइयों ने भी बहनों को रक्षा का वचन दिया और उन्हें उपहार प्रदान किए। रक्षाबंधन पर कई लोगों ने घरों में भी पकवान बनाए।

रोडवेज बसों में रही मारामारी –

उत्तराखंड परिवहन निगम ने रक्षाबंधन के त्योहार पर बहनों को मुफ्त यात्रा का तोहफा दिया था, लेकिन भीड़ इतनी बढ़ी कि बसों में बैठने की जगह भी नहीं मिली। ऋषिकेश से देहरादून के बीच संचालित होने वाली सेवाओं में स्थिति सबसे अधिक खराब रही। सभी आने जाने वाली बसे दिन भर ओवरलोड होकर चली। स्थिति यह थी कि बस अड्डे पर बस के खड़े होते ही बसें भर जाती, जबकि नटराज चौक व आगे के प्वाइंट पर खड़े लोगों के लिए बस में जगह भी नहीं बची।