उत्तराखंड में बोले राहुल, देश के किसानों ने प्रधानमंत्री को सरकार की दिखाई सच्चाई

0
346

कांग्रेस के पूर्व राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी पर बड़ा हमला किया। उन्होंने प्रधानमंत्री की तुलना राजा से करते हुए कहा कि देश का किसान एक साल तक ठंड व कोविड के बीच में सड़क पर खड़ा रहा और प्रधानमंत्री ने उनसे बात करने की जरूरत महसूस नहीं की। उन्होंने कहा कि किसान पीछे नहीं हटे और उन्होंने सरकार को सच्चाई दिखा दी।

कांग्रेस नेता राहुल गांधी शनिवार को किच्छा में उत्तराखंडी किसान स्वाभिमान जनसंवाद के दौरान किसानों को संबोधित कर रहे थे। इस दौरान उन्होंने किसानों से उत्तराखंड में कांग्रेस सरकार बनाने की अपील करी। उन्होंने कहा कि अंग्रेजों से लड़ाई बड़े-बड़े उद्योगपतियों ने नही लड़ी बल्कि हिंदुस्तान के किसान और मजदूरों ने लड़ी। कांग्रेस किसानों के साथ मिलकर हरित क्रांति लाई, जिसके लिए देश के किसानों ने खून पसीना बहाया।

उन्होंने कहा कि देश में दो हिंदुस्तान बन रहे हैं एक हिंदुस्तान अमीरों का है, जहां पर कुछ भी खरीदा जा सकता है, कानून तोड़ा जा सकता है तथा किसी की भी जमीन हड़पी जा सकती है। देश के 100 लोगों के पास हिंदुस्तान के 40 प्रतिशत लोगों से ज्यादा धन है, ऐसी विषमता किसी और देश में नहीं है। उन्होंने कहा कि दूसरा हिंदुस्तान गरीब मजदूरों, किसानों का है जहां रोजगार नहीं है, जमीनी छीनी जा रही हैं और महंगाई लगातार बढ़ती जा रही है जबकि कांग्रेस सिर्फ एक हिंदुस्तान चाहती है।

कृषि कानून की चर्चा करते हुए राहुल गांधी ने कहा कि यह बिल किसान, मजदूरों के साथ अन्याय था इसी कारण कांग्रेस किसानों के साथ खड़ी रही।पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह के कार्यकाल को स्वर्णिम काल बताते हुए उन्होंने कहा कि उस समय सरकारों व किसानों में पार्टनरशिप थी और किसानों के लिए सरकार के दरवाजे हमेशा खुले रहते थे जिस समय यूपीए सरकार थी, उस समय किसानों के प्रतिनिधि मंडल में म प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह, कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी से मुलाकात की और कर्ज माफी की मांग की थी जिसके बाद कांग्रेस सरकार ने उनके मांग के 10 दिन के भीतर 70 हजार करोड़ का कर्ज माफ कर दिया।

प्रधानमंत्री मोदी पर हमला करते हुए राहुल ने कहा कि मोदी प्रधानमंत्री नहीं है बल्कि एक राजा हैं यही वजह है कि किसान आंदोलन के दौरान प्रधानमंत्री ने किसानों से कोई बात नहीं की क्योंकि उनका मानना है कि राजा जो निर्णय लेगा उसे जनता को चुपचाप मानना पड़ेगा। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री मोदी ने एक वर्ष तक किसानों को सड़क पर ठंड में खड़ा रखा। कांग्रेस खत्म हो सकती है ,लेकिन किसानों के साथ यह बर्ताव कभी नहीं कर सकती है।

इस दौरान पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत, प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष गणेश गोदियाल, नेता प्रतिपक्ष प्रीतम सिंह, कार्यकारी अध्यक्ष तिलकराज बेहड़ ने भी संवाद कार्यक्रम को संबोधित किया।