पुलिस ने पकड़ी कालाढूंगी के जंगल मे अवैध हथियार बनाने की फैक्टरी, दो गिरफ्तार

0
118
अवैध

पुलिस और वन विभाग की टीम ने कालाढूंगी क्षेत्र के जंगल मे अवैध हथियार की फैक्टरी पकड़ी है। मामले का खुलासा करते हुए एसएसपी पंकज भट्ट ने बताया कि अवैध हथियार की फैक्टरी चला रहे दो तस्करों को गिरफ्तार किया है। एक तस्कर फरार है, जिसकी तलाश की जा रही है।

उन्होंने बताया कि पुलिस ने 3 तमंचे के साथ ही हथियार बनाने का सामान भी बरामद किया है। पकड़े गए तस्कर उधमसिंह नगर के गदरपुर के रहने वाले हैं। पुलिस अब तस्करों से पूछताछ में जुटी है कि वह इन अवैध हथियारों को कहां सप्लाई करते थे। मौके से भारी मात्रा में हथियार बनाने के उपकरण व एक बाइक भी बरामद की गई है।

एसएसपी पंकज भट्ट ने बताया कि बरहैनी के जंगल में कच्ची शराब बनाने की खबरें आ रही थी, जिस पर वन विभाग और पुलिस की एक संयुक्त टीम का गठन किया गया। कच्ची शराब के धंधे पर अंकुश लगाने के लिए वन विभाग और पुलिस की संयुक्त बरहैनी के घने जंगलों में कांबिंग के लिए पहुंच गई। घने जंगल में टीम को अवैध हथियार बनाने की फैक्टरी मिल गई। पुलिस ने घेराबंदी कर दो लोगों को हिरासत में ले लिया जबकि एक युवक भागने में कामयाब रहा। पकड़े गए लोगों ने अपने नाम गुरमीत सिंह पुत्र दर्शन सिंह और अमरजीत सिंह पुत्र सतपाल सिंह निवासी खुशालपुर सकनिया थाना गदरपुर बताया। इस दौरान राजेन्द्र उर्फ राजू पुत्र दर्शन सिंह निवासी खुशालपुर सकनिया थाना गदरपुर मौके से फरार हो गया। टीम ने मौके से भारी मात्रा में अवैध असलहे बनाने का सामान और एक बाइक भी बरामद हुई है।

एसएसपी ने बताया कि यहां पर अवैध रूप से देशी तमंचे बनाए जा रहे थे, जिनकी सप्लाई यूएस नगर के साथ ही हल्द्वानी आदि में भी की जा रही थी। टीम में एसओ कालाढूंगी राजवीर सिंह नेगी, एसआई कमित जोशी, कां. लखविन्दर सिंह, मिथुन कुमार के अलावा वन क्षेत्राधिकारी रूप नारायण गौतम, वन दरोगा लक्ष्मण सिंह जीना, वन आरक्षी दीपक नेगी शामिल रहे। एसएसपी ने इस सपफलता के लिए टीम को पांच हजार रुपये नगद इनाम देने की घोषणा की है। गौरतलब है कि कुछ साल पहले जौलासाल के जंगल में अवैध हथियार बनाने का कारखाना भी पकड़ा जा चुका है। यह जंगल अति घना होने के साथ ही माओवादी गतिविधियों के लिए भी चर्चित रहा है।