एसटीएफ के हत्थे चड़ा तेंदुए की खालों के साथ तस्कर

0
665

स्पेशल टास्क फोर्स, उत्तराखण्ड, देहरादून को गोपनीय रूप से सूचना प्राप्त हुई कि सीमान्त जनपद पिथौरागढ़ क्षेत्र के दूरस्थ जंगल क्षेत्रों से वन्य जीव जन्तुओं के शिकारियों द्वारा जीवों का शिकार कर उनके अंगों को ऊंचे दामों में बेचा जा रहा है। इस सम्बन्ध में वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक, एसटीएफ द्वारा एसटीएफ टीम का गठन किया गया। एसटीएफ की कुमांयू टीम द्वारा तत्काल कार्यवाही करते हुये 6 जनवरी को मड़मानले तिराहा, थाना जाजरदेवल, पिथौरागढ़ से एक अभियुक्त जगदीश सिंह कैड़ा को गिरफ्तार किया गया। उसका एक अन्य साथी हेमन्त सिंह खड़ायत उर्फ  हेमु मौके से फरार हो गया। गिरफ्तार अभियुक्त के कब्जे से चार तेंदुयें की खाल (Leopard skin) बरामद की गई। उक्त सभी खाले लगभग 08 फीट की है। इस सम्बन्ध में थाना जाजरदेवल, पिथौरागढ़ में वन्य जीव जन्तु संरक्षण अधिनियम के तहत मुकदमा दर्ज कराया गया है।

गिरफ्तार अभियुक्त से पूछताछ पर बताया गया कि वे गुलदार को जहर आदि देकर मारकर खाल, हड्डी आदि का व्यापार करते हैं। फरार अभियुक्त के सम्बन्ध में सुरागरसी पतारसी की जा रही है। उत्तराखंड वन्य जीवों के लिये एक बड़ा धर है और यही कारण है कि वन्य जीवों की तस्करी से डुड़े लोगों के लिये भी मुफीद जगह है। ऐसे में ये पकड़ एक बड़ी कामयाबी है।