खाकी में इंसान: कैनवस पर उतारी खाकी की संवेदना

0
108
खाकी

इन दिनों कुंभ और कोरोना को लेकर जहां एकतरफ बहस गर्म है वहीं, कुंभ में पूरी मुसतैदी से अपनी ड्यूटी कर रहे उत्तरखंड पुलिस के जवानों और अधिकारियों को भी अनदेखा नही किया जा सकता। इन पुलिसकर्मियों की इसी कर्त्व्यनिष्ठा और ज्जबातों को चित्रकार जाकिर हुस्सैन ने पेंटिग के जरिये लोगों तक पहुंचाने की कोशिश की। जाकिर ने अपनी पेंटिंग कुंभ आईजी संजय गुंज्याल को भेंट की।

इस पेंटिंग में जाकिर ने खाकी के चित्रण किया है। जाकिर ने कहा कि इस तस्वीर, खाकी के बीच में आईपीएस ऑफिसर का तिरंगे के रगों से रंगा चेहरा है, जहां ऊर्जा और आत्मविश्वास को दर्शित करता है। वहीं, दोनों छोरों में महिला और पुरुष पुलिस कर्मी को उदास और मुस्कुराते दिखाया गया है। उदास चेहरा पुलिस की परिवार से दूरी और भावानओं के व्यक्त करता है, तो मुस्कुराता चेहरा कर्तव्य पथ पर अडिग सेवा की तत्परता दर्शाता है। सभी धर्मों से समानता, आधुनिक पुलिस, यातायात व्यवस्था का चित्रण इस छोटे से केनवास में है। इसके साथ ही संविधान की श्रेष्ठता और कानून के रक्षक, खूबसूरत उत्तराखंड के भाव लिए यह केनवास स्वयं में खाकी की कहानी है।

इससे पहले जाकिर की एक पेंटिंग एक लाख पिचहत्तर हजार में खरीदी गई है। वहीं अनेक राजनेताओं के आवास में भी उनकी पेंटिंग लगी है। इस केनवास को महंगे रंगों से तैयार किया है। चित्रकार जाकिर हुसैन का कहना है कि यह रंग 150 साल से भी अधिक समय तक भी ऐसा ही बना रहेगा, इसे पानी से भी धोया जा सकता है।