चन्द्र ग्रहण 16 जुलाई को, दो घंटे 59 मिनट रहेगी अवधि

0
40
हरिद्वार, वर्ष 2019 का आखिरी चन्द्र ग्रहण इस बार 16 जुलाई को गुरु पूर्णिमाँ  के दिन लगेगा। भारत समेत अमेरिका, यूरोप, अफ्रीका और ऑस्ट्रेलिया में चंद्र ग्रहण दिखाई देगा। चंद्र ग्रहण के सूतक के कारण शाम के बाद गुरु पूजा निषेध होगी। 16 जुलाई की रात 1 बजकर 31 मिनट पर चंद्र ग्रहण का स्पर्श होगा और मध्यकाल तीन बजे व मोक्ष रात 4 बजकर 30 मिनट पर बजे तक होगा, इस बार भारत में चंद्र ग्रहण की अवधि दो घंटे 59 मिनट रहेगी।
ज्योतिषाचार्य पं. देवेन्द्र शुक्ला के मुताबिक, “चंद्र ग्रहण का सूतक शुरू होने से 9 घंटे पहले ही यानिअपराह्नकाल 1 बजकर 30 मिनट पर लगेगा। उन्होंने बताया कि चंद्र ग्रहण गुरु पूर्णिमा के दिन मंगलवार को होने के कारण देश में प्राकृतिक आपदा, राजनीति में उथल-पुथल होने की संभावनाएं हैं, इस दौरान देव दर्शन निषेध बताया गया है। “
उन्होंने बताया कि, “उत्तरा आषाढ़ नक्षत्र में पड़ने वाले इस ग्रहण के दुष्परिणामों से कुछ सवाधनियां बरतने से बचा जा सकता है।  चन्द्र ग्रहण का प्रभाव मेष, सिंह, वृश्चिक और मीन राशि पर अच्छा रहेगा। जबकि मकर, तुला, कुंभ और मिथुन राशि पर इसका प्रभाव अच्छा नहीं रहेगा। कर्क, वृषभ, धनु और कन्या राशि पर इसका प्रभाव सामान्य रहेगा।  ग्रहण काल में भगवत भजन, दान आदि कर्म करना श्रेयस्कर होता है। ग्रहण काल में सोना और मैथुन आदि कर्म वर्जित बताए गए हैं।  ग्रहण के दुष्प्रभावों से बचने के लिए ग्रहण काल में भगवत भजन सबसे श्रेष्ठ उपाय है।”