उत्तराखंड चुनावों पर पसरा माओवाद का खतरा, नैनीताल में फूंकी सरकारी गाड़ी

0
565
उत्तराखण्ड में चुनाव बहिष्कार को लेकर माओवादियों ने नैनीताल की धारी तहसील में एक सरकारी गाडी फूँक दी। इसके साथ ही उन्होंने चुनाव बहिष्कार और जनयुद्ध की चेतावनी देते हुए पोस्टर बैनर लगा दिए हैं । बुधवार देर रात लगभग 2:30 बजे हुई इस घटना के बाद पी.ए.सी., पुलिस और जिला प्रशासन फौरन हरकत में आया और मौके पर पहुंच गया । कुमाऊ क्षेत्र के डी.आई.जी.अजय रौतेला, जिलाधिकारी दीपक रावत, एस.एस.पी. जनमेजय खंडूरी, ए.एस.पी.हरीश चंद सती और भवाली के सी.ओ.राजेंद्र सिंह ह्यांकि समेत तमाम प्रशासन और पुलिस बल मौके पर पहुँच गया । पोस्टर बैनरों और दीवारों में लिखे मैटर के अनुसार ये लोग भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी, माओवादियों के गुट के लग रहे हैं।
घटना सथल पर मिलि लिखित सामग्री के अनुसार भा.क.पा.माओवादी ने प्रशासन को सीधी चुनौती दी है और ललकारा है । धारी क्षेत्र में हुई इस घटना में पशु चिकित्सालय, दूध डेरी, लघु सिचाई, तहसील कार्यालय, ब्लाक कार्यालय, ए.एन.एम सेण्टर, बिष्ट जर्नल स्टोर, अंकुर बार आदि में पोस्टर बैनर लगाए गए है । माओवादियों ने क्षेत्र की जनता को भड़काते हुए वन खनन पर जनता का राज कायम करो, फूट डालो राज करो की नीति का बहिष्कार करो, वोट बहिष्कार करो, उत्तराखण्ड में जनयुद्ध तेज करो, शराब के ठेकों को ध्वस्त करो, शराब व्यवसाइयों की संपत्ति को जप्त करो और जनहित कार्यों में लगाओ, युवाओं को रोजगार के लिए ट्यूरिज्म हब नहीं बल्कि उद्योग चाहिए । “अमीरों की जागीर नहीं यह जल जंगल हमारा है”, “जो धरती पर जोते बोवे वही धरती का मालिक होवे” जैसे जनविरोधी और क्रांतिकारी नारे पोस्टर और लिखे गए हैं ।
भारत की कम्युनिस्ट पार्टी, जनयुद्ध की राह चलो भी कई पोस्टरों में लिखा गया है । पुलिस और प्रशासन ने सवेरे पहुंचकर पोस्टर निकलवाए और लिखी गई भड़काऊ भाषा को पेंट कर मिटाया । अब पुलिस और प्रशासन मिलकर संभावित ठिकानों में कॉम्बिंग कर इन माओवादियों की तलाश करने का मन बना रही है । चार ज़ोन बनाकर की टीमें भेजी जा रही हैं कॉम्बिंग करने के लिए ।