देहरादून: ऐतिहासिक झण्डा मेला 22 मार्च को

0
351
झण्डा
File image

ऐतिहासिक श्री झण्डा मेला 22 मार्च को पंचमी के दिन होगा। इस मेले की तैयारियां तेज हो गई हैं। इस संदर्भ में दरबार साहब में मंगलवार को प्रबंधन की बैठक हुई।

22 मार्च को श्री झण्डा आरोहण के साथ ही ऐतिहासिक पवित्र मेले का शुभारंभ होगा। इसमें सज्जादानशीन श्रीमहंत देवेन्द्र दास महाराज की ओर से मेला आयोजन समिति के सभी पदाधिकारियों को आवश्यक दिशा-निर्देश जारी कर दिए गए हैं। केसी जुयाल ने बताया कि 2022 में लाखों संगतों की देश-विदेश से पहुंचने की संभावना है। मेला संचालन के लिए 50 समितियों का गठन किया गया है जो मेला आयोजन को कराएंगी।

देश-विदेश से आने वाली संगतों के लिए एसजीआरआर पब्लिक स्कूल की विभिन्न शाखाओं में व्यवस्थाएं पूरी कर ली गई हैं। इन स्कूलों की शाखाओं में रेसकोर्स, बिंदाल, राजा रोड, तालाब व बॉम्बे बाग की विद्यालय शाखाएं शामिल है जहां श्रद्धालुओं को ठहरने का प्रबंध किया गया है। इस वर्ष मेला आयोजन के दौरान 8 बड़े लंगर व 4 छोटे लंगरों की विशेष व्यवस्था की गई है।

श्री झण्डा मेले के कार्यक्रम के अनुसार 12 मार्च को श्री दरबार साहिब के प्रतिनिधि सुबोध उनियाल पंजाब की पैदल संगत के लिए श्रीमहंत देवेन्द्र दास महाराज का हुकुमनामा लेकर जाएंगे और 14 मार्च को अराइंयावाला में श्री झण्डा का आरोहरण किया जाएगा। इसी प्रकार 15 मार्च को पैदल संगतों का जत्था सहसपुर पहुंचेगा। श्री दरबार साहिब मेला आयोजन समिति की ओर से संगतों का सहसपुर में स्वागत किया जाएगा। 16 मार्च को पैदल संगत कांवली होते हुए श्री दरबार साहिब पहुंचेगी जहां परंपरा के अनुसार संगतों का स्वागत किया जाएगा।

19 मार्च को श्री झण्डा के आरोहण के लिए तैयार किए गए ध्वजदण्ड को एसजीआरआर बॉम्बे बाग स्कूल से श्री दरबार साहिब तक लाया जाएगा। इसी दिन गिलाफ सिलाई का कार्य भी शुरू हो जाएगा। 21 मार्च की शाम को परंपरा के अनुसार पूर्व से आई संगतों की विदाई होगी। 22 मार्च को सुबह 8 बजे से 9 बजे के बीच श्री झण्डा को उतराने और सेवकों व संगतों द्वारा श्री झण्डा को दही, घी, गंगाजल, एवं पंचगब्यों से स्नान का कार्यक्रम प्रारंभ होगा। प्रात: 10 बजे से दोपहर 2 बजे तक श्रीमहंत देवेन्द्र दास द्वारा संगतों को दर्शन दिए जाएंगे व गिलाफ चढ़ाने की प्रक्रिया को पूरा किया जाएगा। इसी दिन शाम 3 बजे से 4 बजे के बीच श्री झण्डा का आरोहण किया जाएगा। 24 मार्च को ऐतिहासिक नगर परिक्रमा तथा 10 अप्रैल 2022 को रामनवमी के दिन श्री झण्डा मेला का समापन हो जाएगा।

इसके इतिहासानुसार श्री गुरु राम राय महाराज की जयंती पर हर साल श्री दरबार साहिब देहरादून में श्री झंडा मेले का आयोजन किया जाता है। गुरु राम राय महाराज सातवीं पातशाही (सिखों के सातवें गुरु) श्री गुरु हर राय के पुत्र थे। श्री गुरु राम राय महाराज का जन्म पंजाब के कीरतपुर (जिला होशियारपुर) में वर्ष 1646 में होली के पांचवें दिन चैत्रवदी पंचमी पर हुआ था। तब से हर साल संगतों द्वारा देहरादून में होली के पांचवें दिन (चैत्रवदी पंचमी) ऐतिहासिक श्री झंडा मेले का आयोजन किया जाता है।