फसलों पर ही नहीं, पेड़ पौधों पर भी दिखने लगी मौसम की बेरुखी

0
348
मौसम की बेरुखी पहाड़ी क्षेत्र के काश्तकार ही नहीं झेल रहे बल्कि यहां के पेड़ पौधों पर भी इसका प्रतिकूल असर देखने को मिल रहा है। प्रदेश के उच्च हिमालयी क्षेत्रों में पाये जाने वाले राज्य वृक्ष बुरांश (रोडोडेन्ड्रोन आरबेरियम) पर भी मौसम की बेरुखी का असर देखने को मिल रहा है। जहां बसंत के आगमन के साथ ही इन दिनों पहाड़ियों पर बुरांश के फूल खिल जाते थे, वहीं इस बार अत्यधिक बर्फबारी से बुरांश की कोंपलें भी नहीं खिल सकी हैं।
चमोली जिले में अमूमन फरवरी माह के अंतिम सप्ताह से बुरांश के फूल खिलने शुरू हो जाते थे लेकिन इन दिनों मार्च के मध्य तक भी जिले में बर्फबारी और बारिश थमने का नाम नहीं ले रही है। ऐसे में बुरांश के फूलों के खिलने के लिए उपयुक्त तापमान न मिलने से पेड़ों पर कोंपलें भी खराब होने लगी हैं। इससे साफ है कि इस वर्ष बुरांश की रंगत और जूस से लोगों को महरूम रहना पड़ेगा।
क्या कहते है इसके जानकार
बुरांश (रोडोडेंड्रोन आरबेरियम) की फ्लावरिंग इस वर्ष अत्याधिक ठंड के चलते नहीं हो पाई है। बुरांश के फूल को फ्लावरिंग के लिए 20 से 25 डिग्री तक तापमान की जरूरत होती है। ऐसे में राज्य के ईस्टर्न स्लोप वाले वनों में कुछ स्थानों पर बुरांश खिला है लेकिन कम तापमान वाले क्षेत्रों में बुरांश नहीं खिल पाया है। इससे इस वर्ष फूलों की उपज बीते वर्षों की अपेक्षा बहुत कम मात्रा में रहने के आसार हैं।