उत्तराखंड में झमाझम बारिश, बदरीनाथ और कैलाश मार्ग बाधित

0
190
उत्तराखंड
उत्तराखंड की राजधानी देहरादून सहित राज्य भर में शुक्रवार को झमाझम बारिश हो रही है। बारिश के चलते गढ़वाल और कमाऊं में नदी- नालों का जल स्तर बढ़ने लगा है। बदरीनाथ उच्च मार्ग के साथ ही कैलास मानसरोवर मार्ग भी बाधित है। मौसम विभाग की ओर से बारिश  पर राज्य के तीन जिलों में आरेंज अलर्ट जारी किया गया है। चेतावनी को लेकर सरकार की ओर से जिलाधिकारियों को अलर्ट पर रखा गया है।
गुरुवार देर रात से ही देहरादून सहित  राज्य के अन्य जनपदों में रुक-रुक कर बारिश जारी है। शुक्रवार प्रात: से ही देहरादून, नैनीताल सहित पर्वतीय और मैदानी इलाकों में कहीं-कहीं बारिश की बौछारें तेज गति से पड़ रही है।  मौसम पूरी तरह खुशगवार हो गया है। आकाश में काले-काले बादल छाए हुए हैं।  आज दून में सुबह से अभी तक सूर्यदेव दर्शन नहीं दे पाए। बारिश के चलते पहाड़ियों में भूस्खलन से सड़कें बंद होने का सिलसिला भी शुरू हो चुका है।
उत्तराखंड में मानसून 13 जून को पहुंच चुका था लेकिन इसका शुरुआती असर कुमाऊं मंडल में ही देखा गया। कुमाऊं में मानसून मजबूत होने की संभावना है। कुमाऊं में पिछले दो- तीन दिनों से बारिश का दौर चल रहा है। गुरुवार की शाम से ही गढ़वाल मंडल के अधिकांश हिस्सों में बारिश का दौर शुरू हो चुका है। गुरुवार की शाम से मौसम ने रंग बदलना शुरू किया और गढ़वाल के अधिकांश इलाकों में बारिश होने लगी।
बारिश के चलते अलकनंदा  सहित अन्य नदियां उफान पर आ गई हैं। भूस्खलन होने से बदरीनाथ हाईवे कौड़िया और गुलाबकोटी में बंद है। पर्वतीय क्षेत्रों में अब भी कुछ स्थानों पर मार्ग अवरुद्ध हैं। मलबा आने से बंद मार्ग पर पिथौरागढ़ से हल्द्वानी के लिए यातायात संचालन अब थल और सेराघाट से हो रहा है। चौथे दिन दिन शुक्रवार को पिथौरागढ़ और घाट के बीच यातायात बहाल नहीं हो सका। एनएच मंगलवार रात से बंद है। मार्ग में फंसे लोग पैदल पिथौरागढ़ आ रहे हैं। पहाड़ी दरकने के कारण कैलास मानसरोवर यात्रा मार्ग भी बंद है।
मौसम विभाग की ओर से उत्तराखंड के पिथौरागढ़,नैनीताल और चंपावत जैसे जिलों में आज बहुत भारी बारिश की संभावना है, जबकि, चमोली बागेश्वर अल्मोड़ा उधमसिंह नगर में भारी बारिश के आसार हैं।  विभाग ने रेड अलर्ट जारी करते हुए इन जिलों में छोटी नदियों, नालों के समीप रहने वाले लोगों को सावधान रहने की जरूरत बताई है।  राज्य के मैदानी इलाकों में 30 से 40 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से तेज हवाओं के चलने की भी संभावना है। देहरादून समेत कई जिलों में आकाशीय बिजली गिरने के साथ ही तेज बौछार पड़ने के आसार बने हुए है।