बीमार हरीश रावत उपवास धरने में सरकार पर हुए आक्रामक 

0
29
Harish Rawat raises questions on EVMs as election results come up
Harish rawat
कांग्रेस महासचिव व पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत ने अस्पताल से छुट्‌टी मिलते ही भाजपा सरकार के खिलाफ पंचायत रक्षा उपवास धरने में शामिल हो मोर्चा खोल दिया। इस दौरान रावत ने कहा कि भाजपा चोर दरवाजे से ग्राम सरकार की सत्ता चाह रही है लेकिन जागरूक मतदाता इसे सफल नही होने देंगे। हरदा की इस आक्रमकता से कांग्रेस और उनके समर्थकों में नई उर्जा से जोड़ कर देखा जा रहा है।
  बुधवार को राजीव गांधी काम्प्लेक्स पर पूर्व प्रधानमंत्री स्व. राजीव गांधी की मूर्ति के सामने पंचायत जन अधिकार मंच उत्तराखंड के तत्वावधान में मतदताओं की जागरूकता के लिए उपवास कार्यक्रम रखा गया था। हरीश रावत मंगलवार को मैक्स अस्तपाल से डिस्चार्ज हुए थे और वे आज उपवास धरने में शामिल होकर भाजपा सरकार की नीतियों पर जमकर हमला बोला। कहा कि हमारी सरकार ने पंचायत राज एक्ट बनाकर कोशिश की थी कि राज्य में पंचायतें मजबूत हों, लेकिन वर्तमान भाजपा सरकार ने उस एक्ट में कई अव्यावहारिक संशोधन करके राज्य की पंचायतों को कमजोर करने का काम किया है। जिस संस्था की स्थापना में बापू की कल्पना रही हो और राजीव गांधी ने उस कल्पना को साकार किया हो तो संघ विचारधार के लोग उस संस्था के अस्तित्व पर चोट अवश्य करेंगे। इसलिए पंचायतों की रक्षा के लिये सबको एकजुट होने की जरूरत है।
कांग्रेस के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष व किशोर उपाध्याय ने कहा कि सरकार ने कानून में कई गलत प्रावधान करके ग्रामीण सरकार को कमजोर करने का काम किया है। हम सब लोग मिलकर सरकार के इस गलत कारनामे के खिलाफ संघर्ष करेंगे। पंचायत जनाधिकार मंच के संस्थापक जोत सिंह बिष्ट ने कहा कि उत्तराखंड देश का पहला राज्य है जिसमें एक संस्था में दो पद्धति से चुनाव कराए जा रहे हैं। इस उपवास कार्यक्रम में पूर्व प्रमुख प्रभु लाल बहुगुणा, देहरादून जिले के संयोजक अश्विन बहुगुणा,सुरेंद्र अग्रवाल, नीनू सहगल, अशोक वर्मा सहित अन्य उपस्थित रहे।