शराब कांड के मुख्य आरोपियों को पुलिस ने किया गिरफ्तार

0
242

हरिद्वार। यूपी और उत्तराखंड में जहरीली शराब परोसकर नरसंहार करने वाले मास्टर माइंड को यूपी और उत्तराखंड पुलिस ने संयुक्त आप्रेशन चलाकर रविवार को गिरफ्तार करने का दावा किया हैं।
पुलिस ने बताया कि जहरीली शराब परोसने वाले दोनों आरोपी पिता और पुत्र हैं, जबकि इनके तीन साथी फरार हैं। पुलिस ने आरोपियों की निशानदेही पर जहरीली शराब के खाली पाउच, खाली कोल्ड ड्रिंक की बोतल और गन्ने के खेत से एक कच्ची शराब ले जाने वाली जरीकेन को बरामद किया हैं। पुलिस फरार अपराधियों की तलाश में दबिश दे रही हैं। रुड़की कोतवाली में एसएसपी जन्मेजय खंडूरी व सहारनपुर के एसपी विनोद कुमार ने संयुक्त प्रेस वार्ता कर बताया कि आठ फरवरी को थाना झबरेड़ा के ग्राम बिंदुखडक, बाल्लूपुर, भलस्वगाज,लाठरदेवा शेख, सावतवाली इकबालपुर, नगला सलारू, जहाजगढ़, हल्लू मजरा आदि गांव में जबकि सहारनपुर के ग्राम उमरी शिवपुर, कोटा, माली, कोलकी, सलेमपुर, जसाला आदि गांव अवैध जहरीली शराब पीने के काफी लोगों की मौत हो गई। जबकि काफी लोग गंभीर हालत में अस्पताल में भर्ती कराए गए। इस प्रकरण में मुकदमा दर्ज कर पुलिस अवैध शराब बनाने व बेचने वालों की धरपकड़ में जुट गई। यूपी और सहारनपुर की संयुक्त पुलिस टीम गठित कर आप्रेशन चलाया गया और जहरीली शराब बेचने वालों को पकड़ने में जुट गई। पुलिस टीम को सफलता मिली और दो लोगों को गिरफ्तार किया गया। फिलहाल पुलिस ने आरोपियों को गिरफ्तार कर राहत की सांस ली है। लेकिन पुलिस का धरपकड़ अभियान जारी है। इस घटना के बाद से जनपद पुलिस ने शराब तस्करों के खिलाफ एक बड़ी मुहिम शुरू की हुई है।
नरसंहार के आरोपी का खुलासा
आरोपी सोनू पुत्र फकीरा 25 साल और उसके पिता फकीरा पुत्र लच्छी आयु 58 साल को गिरफ्तार कर लिया गया। गिरफ्तार आरोपी सोनू ने बताया कि 5 फरवरी को जनपद सहारनपुर के ग्राम पुंडेन से सुबह पांच बजे सरदार हरदेव पुत्र सुखबिंदर तथा उसके पिता सुखबिंदर से 35 बोतल कच्ची शराब पाउच में लेकर आया था। घर आकर देखा तो कुछ अजीब सी लग रही थी। वह सफेद दूधिया रंग में थी और डीजल की बदबू भी आ रही थी। इस बात को तस्दीक करने के लिए जब सुखबिंदर से पूछा गया तो उसने बताया कि इसका रंग काला पड़ गया था, इसमें दूध मिलाया है तथा डीजल के बर्तन में होने के कारण बदबू आ गई। सुखबिंदर ने कहा कि निकाल सकता है तो निकाल दे। सोनू ने बदबूदार कच्ची शराब में से 20 बोतल गजराज पुत्र रूपचंद्र निवासी बालुपुर को दे दी तथा दो बोतल के आठ पाउच बनाकर उसके चार पावच ग्राहकों को दे दिए और चार पाउच ग्राम खरक के धीर सिंह को दिए। धीर सिंह ने एक पाउच उसी समय पी लिया। एक पाउच पीने के बाद धीर सिंह ने शराब खराब बताकर तीन पाउच वापिस कर दिए।इसके बाद बची हुई शराब के पावच बनाकर अन्य लोगों को बेच दिए।
गिरफ्तार आरोपी फकीरा पुत्र लच्छी और उसका बेटा सोनू निवासीगण ग्राम बाल्लूपुर थाना झबरेड़ा, हरिद्वार हैं, जबकि फरार आरोपी सरदार हरदेव सिंह पुत्र सुखबिंदर उर्फ सुक्खा और सुखबिंदर उर्फ सुक्खा पुत्र आशा निवासीगण ग्राम पुंडेन थाना गांगलहेडी जनपद सहारनपुर और धारा पुत्र बुद्धु निवासी ग्राम बिंडु थाना झबरेड़ा, हरिद्वार हैं।