धामी बोले- जनसांख्यिकीय परिवर्तन पर सरकार सख्त, प्रतीक स्थल के नाम पर अतिक्रमण मंजूर नहीं

0
151
मुख्यमंत्री
FILE

मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने कहा कि जनसांख्यिकीय परिवर्तन को सहन नहीं किया जाएगा, इसके लिए सरकार सख्त से सख्त कदम उठा रही है। प्रतीक स्थल के नाम पर अतिक्रमण करने पर कार्रवाई जारी रहेगी।

रविवार शाम प्रिंस चौक स्थित एक निजी होटल में टिहरी लोकसभा व्यापारी सम्मेलन महा जनसम्पर्क अभियान में बतौर मुख्य अतिथि मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने यह बातें कही।

इस दौरान मुख्यमंत्री ने कहा कि उत्तराखंड के मूल स्वरूप से खिलवाड़ नहीं करने दिया जाएगा। राज्य में लव और लैंड जेहाद को सहन नहीं किया जाएगा। राज्य में प्रतीक स्थल बनाकर अतिक्रमण किया गया है। जहां कोई साक्ष्य नहीं है। प्रशासन उस पर कानूनी कार्रवाई कर रहा।

मुख्यमंत्री ने कहा कि सरकारी जमीनों पर अतिक्रमण का विषय गंभीर है। न्यायालयों के आदेशों के क्रम में प्रशासन द्वारा समय-समय पर अतिक्रमण के समाप्त कराने का अभियान चलाया जाता है। इस दिशा में आमजन का भी पूरा सहयोग मिल रहा है। आगे भी सरकारी जमीनों पर अतिक्रमण के मुद्दों को गंभीरता से लेगी और न्यायसंगत कार्यवाही अमल में लाई जाएगी।

मुख्यमंत्री ने कहा कि भ्रष्टाचार पर प्रभावी नियंत्रण के लिए उत्तराखण्ड में भी हमने कई महत्वपूर्ण कदम उठाए हैं। हमारे राज्य में भ्रष्टाचार को जड़ से समाप्त करने के लिए की गई पहल पूरे देश में एक नजीर बन सकती हैं। देश का सबसे कठोर नकल विरोधी कानून सबसे कम समय में लागू करने का श्रेय हमारी राज्य सरकार को जाता है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि गोवा और देहरादून के बीच डायरेक्ट हवाई सेवा शुरू की जा रही है। अब मात्र दो घंटे में देहरादून से गोवा पहुंचा जा सकेगा। इससे राज्य में पर्यटन को और अधिक प्रोत्साहन मिलेगा।

मुख्यमंत्री ने कहा कि हमारी सरकार द्वारा एमएसएमई और महिला उद्यमियों को प्रोत्साहित करने पर विशेष बल दिया जा रहा है। सरकार व्यापार विकास को सुविधाजनक बनाने व निवेश को आकर्षित करने के लिए आवश्यक इकोसिस्टम तैयार कर रही है। हाल ही में देहरादून से दिल्ली वन्दे भारत ट्रेन के शुभारम्भ पर प्रधानमंत्री ने उत्तराखण्ड को विकास के नवरत्न की बात कही। ऋषिकेश-हरिद्वार को एडवेंचर टूरिज्म और योग की राजधानी के रूप में विकसित किया जा रहा है। टनकपुर-बागेश्वर रेल लाइन पर भी जल्द काम शुरू होगा।

मुख्यमंत्री ने कहा कि उत्तराखण्ड जैसे भौगोलिक दृष्टि से अपेक्षाकृत छोटे राज्य के लिए वास्तव में यह अत्यंत गौरवशाली उपलब्धि है, जिसे जी- 20 की तीन बैठकों के आयोजन का सुअवसर मिला है। हम राज्य में आयोजित होने वाली आगामी जी 20 की बैठक के लिए अत्यन्त उत्साहित एवं उत्सुक हैं। राज्य में जी 20 के सम्मेलनों का आयोजन हमारे लिए नए अवसर, नए अनुभव, अपनी पारम्परिक, सांस्कृतिक, आध्यात्मिक विरासत, पर्यटन की क्षमताओं को अंतरराष्ट्रीय स्तर पर प्रदर्शित करने का स्वर्णिम अवसर है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व में आज भारत विश्व की पांचवीं बड़ी अर्थव्यवस्था है। अगले 25 वर्षों में जब भारत एक अर्थव्यवस्था के रूप में विकसित होगा उसमें व्यापारियों, उद्यमियों का अहम योगदान होगा।

व्यापारी, उद्यमी ही हमारे देश की अर्थव्यवस्था की रीढ़ हैं और ब्राण्ड इण्डिया के सबसे अच्छे ब्राण्ड अम्बेसडर भी हैं। प्रधानमंत्री के 9 वर्ष के उत्कर्ष कार्यकाल में समाज के हर वर्ग के उत्थान और संवर्द्धन के लिए अनेकों योजनाएं देश को दी है। प्रधानमंत्री ने देश की अर्थव्यवस्था को मजबूत करने के लिए वोकल फॉर लोकल का नारा दिया है। देश को आत्मनिर्भर बनाने की पहल की गई।

कार्यक्रम में विधायक विनोद चमोली, खजान दास, सविता कपूर, मेयर देहरादून सुनील उनियाल गामा, व्यापार मण्डल के महानगर अध्यक्ष सिद्धार्थ अग्रवाल, पुनीत मित्तल, अनिल गोयल तथा 162 विभिन्न व्यापार मण्डलों व संगठनों के सदस्य, भारी संख्या में व्यापारी तथा उद्योगपति उपस्थित थे।