यात्रा के दौरान ”पहाड़ी किचन” देगा पहाड़ी खाना चखने का मौका

0
181
Pahadi Kitchen serving Authentic Pahadi food in Sonprayag
Pahadi Kitchen

बीते 7 मई को चारधाम यात्रा की शुरुआत होते ही अब तक लाखों श्रद्धालुओं ने दर्शन कर लिए हैं। इस साल केदारनाथ यात्रा की यात्रा भी पिछले साल से ज्यादा श्रद्धालु कर रहे हैं।

यात्रा के दौरान बहुत से लोग रास्ते में पहाड़ी खाना खाने का शौक रखते हैं। लोगों के इसी शौक को पूरा करने के लिए सोनप्रयाग में पहाड़ी किचन रेस्टोरेंट की शुरुआत हुई हैं। सोनप्रयाग में दिन का लंच और रात के डिनर के लिए आप पहाड़ी किचन का खाना ट्राई कर सकते हैं।

केदारनाथ से पहले आने वाले पड़ाव, सोनप्रयाग एक ऐसा पड़ाव है जहां सभी छोटी गाड़ियों की पार्किंग की व्यवस्था है और यहां से लोग शटलर के माध्यम से गौरीकुंड जाते हैं। बीते 24 मई से पहाड़ी किचन की शुरुआत यहा हुई है और जैसा कि नाम से ही पता चल रहा इस रेस्टोरेंट में पहाड़ी खाने की लगभग हर वेरायटी मिल रही है। यह किचन जहां पहाड़ी लोगो को पसंद आ रहा है वहीं दूसरे राज्य के लोगों को भी यहां पर ऑथेंटिक पहाड़ी खाना चखने का मौका मिल रहा है।

पहाड़ी किचन को शुरु करने मनोज सेमवाल से हमारी बातचीत होने पर उन्होंने बताया कि, “हम पिछले कई सालों से केदार घाटी में अपनी सेवाएं दे रहे हैं। लोग हमें यहां जानते हैं और आए दिन बहुत से युवा हमारे पास रोज़गार के लिए आते हैं। इन युवाओं को रोजगार देने के ध्येय से और यात्रियों को पहाड़ी स्वाद देने के लिए हमने पहाड़ी किचन की शुरुआत की। पहाड़ी किचन में इस वक्त 12-15 लोग काम कर रहे हैं जिसमें 4 लड़कियां भी हैं और यह सारे लोग आसपास के ही है।” मनोज कहते हैं कि, “साल 2015 में हमने केदरानाथ में केदारनाथ किचन के नाम से खाने की सेवा दी थी जो लोगों ने बहुत पसंद किया था बस उसी तर्ज पर थोड़े बड़े स्तर पर हमने पहाड़ी किचन की शुरुआत की है।”

Pahadi Kitchen

आपको बतादें कि पहाड़ी किचन में आपको शुद्ध पहाड़ी खाना जैसे कि भटवानी, चौंसा, भंगजीर की चटनी, मंडूए की रोटी-पूरी, भांग की चटनी, चौलाई की रोटी, लाल भात के साथ ही स्पेशल झंगोरे की खीर परोसी जाती है।इससे ना केवल लोगों को पहाड़ी खाने के बारे में पता चलेगा बल्कि बहुत से युवाओं को रोजगार भी मिल रहा है।

मनोज कहते हैं कि, “बाबा केदारनाथ की कृपा से अब तक हमें बहुत अच्छा रिस्पॉंस मिल रहा है और आने वाले समय में हम और बेहतर करने का प्रयास करेंगे।” तो अगर आप भी केदारनाथ का रुख करने वाले हैं तो रास्ते में सोनप्रयाग के पहाड़ी किचन का गढ़वाली खाोना जरुर चखें।