गढ़वाली किताबों से प्राथमिक कक्षाओं में होगी पढ़ाई

0
249

राज्य की मूल भाषाओं को बढ़ावा देने के प्रयास में, उत्तराखंड सरकार ने क्लास 1 से 5 की कक्षाओं में गढ़वाली बोली की स्कूली किताबें शुरू करने का निर्णय लिया है। शुरुआत में, इसे राज्य के पौड़ी गढ़वाल जिले में एक पायलट परियोजना के रूप में लागू किया गया है।

उत्तराखंड की दो प्रमुख क्षेत्रीय बोलियाँ हैं; गढ़वाली और कुमाऊँनी। गढ़वाली मुख्यतः गढ़वाल मंडल के क्षेत्रों में बोली जाती है जबकि कुमाऊँ मंडल में कुमाऊँनी बोली जाती है।

गढ़वाली भाषा में स्कूल की किताबों को इस्तेमाल में लाने का विचार पौड़ी गढ़वाल के जिला मजिस्ट्रेट (डीएम) धीरज सिंह गर्ब्याल के दिमाग की उपज था।

इस योजना पर बात करते हुए, गर्ब्याल ने कहा, “मैंने हमेशा सोचा था कि मैं जहां भी तैनात रहूंगा,वहां राज्य की मूल भाषाओं को बढ़ावा दूंगा। इसलिए जब मुझे इस वर्ष 1 जनवरी को पौड़ी का डीएम नियुक्त किया गया, मैंने तुरंत इस विचार पर काम करना शुरू कर दिया और 15 जनवरी को इसके लिए एक टीम बनाई।” उन्होंने बताया, “टीम में गढ़वाली भाषा के विशेषज्ञ, लेखक और कलाकार शामिल थे।

उन्होंने कहा “किताबों के कंटेट पर काफी विचार के बाद, टीम ने आखिरकार उन्हें प्रिंट किया और कुछ दिनों पहले उन्हें बच्चों में बांटा गया। कक्षा 1-5 के लिए देवनागरी लिपि में लिखी गढ़वाली सामग्री वाली यह एकलौती किताब है।

शुरुआती चरण में, गर्ब्याल ने केवल पौड़ी ब्लॉक के स्कूलों में किताबें शुरू करने के बारे में सोचा था, लेकिन कुछ दिनों पहले मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने इसके बारे में जानने के बाद घोषणा की कि “इस विचार को पूरे जिले में लागू किया जाएगा।” सीएम रावत इस विचार से बहुत प्रभावित थे क्योंकि यह राज्य की संस्कृति को बढ़ावा देने के लिए एक महत्वपूर्ण कदम है। आने वाले कुछ ही दिनों में किताबों को स्कूलों में बच्चों में बांटा जाएगा।

किताबों की सामग्री पर बात करते हुए, परियोजना समन्वयक, गणेश कुक्षल जिन्होंने पिछले 33 वर्षों से गढ़वाली भाषा पर काम किया है, उन्होंने कहा, “किताब का कवर और कंटेट इंटरैक्टिव गढ़वाली के तरीके में है।

बच्चों के साथ जुड़ना आसान बनाने के लिए, हमने पारंपरिक पहाड़ी गहनों के नाम से पाँच कक्षाओं में हर एक किताब का अलग-अलग नाम रखा है। कक्षा 1 के लिए पुस्तक का नाम धगुली है, जो बच्चों के लिए एक कंगन (ब्रेसलेट) है, कक्षा 2 के लिए, यह हंसुली जो बच्चों के लिए एक गले का आभूषण और कक्षा 3 के लिए, यह चुबकी, एक गर्दन आभूषण है। शेष कक्षा 4 के लिए यह पायजीबी है, जो पायल  है और कक्षा 5 के लिए, झुमकी है, जो झुमके हैं,” उन्होंने कहा।

बच्चों के लिए गढ़वाली भाषा सीखना और उनसे जुड़ना आसान बनाने के लिए, किताबों में लोककथाएँ, लोकगीत और गढ़वाल और राज्य की प्रसिद्ध हस्तियों की कहानियाँ हैं।

उन्होंने कहा कि, “कक्षा 1 की पुस्तक की तरह, हमने हिंदी वर्णमाला को एक टिव्स्ट के साथ शामिल किया है। पारंपरिक रूप से इसे ए से आम सिखाया जाता है, लेकिन हमने इसे अ से लिए बदल दिया है जो एक गढ़वाली व्यंजन है। इसमें हर वर्णमाला में  कुछ गढ़वाली है। इसी तरह  हमने क्लास 2 और 4 की किताबों में चिपको आंदोलन की गौरा देवी और स्वतंत्रता सेनानी वीर चंद्र सिंह गढ़वाली जैसी प्रसिद्ध गढ़वाली व्यक्तित्वों की चित्रात्मक कहानियों को शामिल किया है।”