पहली बार देसी नस्ल के कुत्ते होंगे भारतीय सेना में शामिल

0
4321

देहरादून: इस तरह की पहली कोशिश में, एक भारतीय नस्ल के कुत्ते को सेना में शामिल करने के लिए प्रशिक्षित किया जा रहा है।अब तक आर्मी विदेशी नस्लों जैसे कि जर्मन शेफर्ड, लैब्रेडर्स और ग्रेट स्विस माउंटेन कुत्तों का उपयोग किया जाता रहा है। सूत्रों ने बताया कि मेरठ में सेना की रिमाउंट ऐंड व्हेटर्नरी कॉर्पस (आरवीसी) ने लगभग देसी नस्ल मुधोल हाउंड्स नस्ल के छह कुत्तों को प्रशिक्षण दिया है जिनके इस साल के अंत तक जम्मू-कश्मीर में तैनाती के लिए शामिल होने की संभावना है।

पिछले साल कर्नाटक से कुत्तों को आरवीसी केंद्र भेजा गया था और तब से वह गहन प्रशिक्षण से गुजर रहे था। केंद्र में तैनात एक अधिकारी ने कहा कि “यह एक नई पहल थी क्योंकि हमारे पास बिल्कुल शोध या दस्तावेज या कोई पिछला अनुभव नहीं था हाउंड को प्रशिक्षित करने का। “शुरू में, कुत्तों को क्वेरेंटिन में रखा गया जिससे यह जांच हो सके कि उन्हें कोई बीमारी तो नहीं।इसके बाद उन्हें बेसिक ओबिडिएन्ट ट्रेनिंग दी गई उसके बाद लड़ाई के दौरान इस्तेमाल आने वाले गुणों की ट्रेनिंग और अंत में विशेष ट्रेनिंग।उन्होंने बताया कि ‘’इस पूरी ट्रेनिंग में सबसे महत्तवपूर्ण पहलू था ट्रेनर और कुत्ते के बीच के बाँड को मजबूत बनाना जिससे पशु के व्यवहार के साथ-साथ उसकी क्षमता का आकलन किया जा सका”।

यह पूछने पर कि क्या भविष्य में भारतीय कुत्ते की नस्लों को शामिल किया जाएगा, अधिकारी ने कहा, “यह फिलहाल  तुरंत लेने वाला फैसला नहीं है।इस फैसले के पीछे कई वैज्ञानिक सोच लगी हैं। मुधोल हाउंड एक मजबूत वंश के साथ एक मान्यता प्राप्त भारतीय नस्ल है। अपनी गति,फुरतीलेपन और आकार के साथ यह एक गार्ड कुत्ते के रूप में अच्छा होगा, हालांकि इसका यह मतलब नहीं है कि इसे विशेषता की वजह से अन्य कार्यों के लिए प्रशिक्षित नहीं किया जा सकता है।प्रशिक्षण के लिए चुनने से पहले कुत्ते के  स्वभाव, क्षमता और मनोदशा को ध्यान में रखकर कुत्तों का चयन किया जाता है। इसलिए, यह कहना बहुत जल्दी होगी कि क्या भविष्य में सेना में अधिक भारतीय नस्लों को शामिल किया जाएगा।”

इस बीच, मुम्बई स्थित इंडियन नेशनल कैनल क्लब(आईएनकेसी) के एक अधिकारी, जो एक संगठन है जो कुत्तों के ठीक तरह से, पालन और प्रशिक्षण के बारे में जागरूकता पैदा करने में शामिल है, उन्होंने बताया कि यह संगठन का पहला प्रयास नहीं था कि मुधोल शिकारी नस्ल के कुत्तों को प्रशिक्षित करना है।