जानिए कौन सी तारीख को खुल रहे चारधाम मंदिरों के कपाट

0
394
चारधाम

लगभग छह महीनें सर्दियों के लिए बंद रहने के बाद , उत्तराखंड के तीर्थस्थल, जिन्हें चारधाम के रूप में जाना जाता है, बहुत ही कम समय में तीर्थयात्रा के लिए अपने कपाट एक बार फिर से खोलने वाले हैं।

यमुनोत्री, गंगोत्री 7 मई को सुबह 11:30 बजे और फिर 9 मई को सुबह 4:45 बजे केदारनाथ और उसके बाद 10 मई बद्रीनाथ सुबह 11:30 बजे अपने कपाट को खोलने का काम करेंगे।

हमेशा की तरह हेमकुंड साहिब के सिख तीर्थ दर्शन 25 मई को खुलने वाला अंतिम होगा। प्रसिद्ध चारधाम के साथ, भगवान शिव को समर्पित दूसरे मंदिरों के कपाट भी खुल जाऐंगे।

बैसाखी पावन पर्व पर बारह ज्योतिर्लिगों में शामिल केदारनाथ धाम के बाद अब पंचकेदारों में द्वितीय केदार भगवान मद्महेश्वर और तृतीय केदार भगवान तुंगनाथ धाम के कपाट खोलने की​ तिथियां पंचांग गणना के साथ तय हो गईं। तृतीय केदार तुंगनाथ के कपाट 10 और केदार मद्महेश्वर के कपाट 21 मई खोले जाएंगे। द्वितीय केदार मद्महेश्वर के कपाट 21 मई को सुबह 11 बजे और तृतीय केदार तुंगनाथ के कपाट 10 मई को दोपहर 12 बजे खुलेंगे। मद्महेश्वर भगवान ओंकारेश्वर मंदिर से बाहर 17 मई को आकर मंदिर सभामंडप में रहेंगे। जहां पर भगवान को ग्रामीणों द्वारा नए अनाज के पकवान का भोग लगाया जाएगा। इसे स्थानीय भाषा मे छाबड़ी पर्व कहा जाता है।

मध्यमहेश्वर या मदमहेश्वर भारत के उत्तराखंड में गढ़वाल हिमालय के मानसोना गांव में स्थित भगवान शिव को समर्पित एक हिन्दू मंदिर है। 3,497 मीटर की ऊंचाई पर स्थित, यह पंच केदार तीर्थयात्रा सर्किट में आने वाला चौथा मंदिर है, जिसमें गढ़वाल क्षेत्र के पांच शिव मंदिर शामिल हैं।मदमहेश्वर के लिए कहा जाता है कि यहां शिवजी ने मधुचंद्ररात्रि मनायी थी। जो व्यक्ति इस क्षेत्र में पिंडदान करता है, वह पिता की सौ पीढ़ी पहले और सौ पीढ़ी बाद के तथा सौ पीढ़ी माता के तथा सौ पीढ़ी श्वसुर के वंशजों को तरा देता है।

तुंगनाथ धाम की गिनती दुनिया के सबसे ऊंचे शिवालय में होती है। करीब 3,680 मीटर की ऊंचाई पर स्थित इस शिवालय को विश्व का सबसे ऊंचा शिवालय माना जाता है। तकरीबन 1000 साल पुराना तुंगनाथ मंदिर केदारनाथ और बद्रीनाथ मंदिर के बीचोबीच स्थित है। द्वापर युग में महाभारत के युद्ध के दौरान हुए विशाल नरसंहार के बाद भगवान शिव पांडवों से रुष्ट हो गए थे। तब भगवान शिव को प्रसन्न करने के लिए पांडवों ने इस मंदिर का निर्माण कर उनकी उपासना की थी।

मंदिर के नियमित चारधाम मार्ग से दूर, रुद्रप्रयाग जिले के में स्थित, इन मंदिरों में साल भर में हजारों पर्यटक आते हैं। तुंगनाथ क्षेत्र को चोपता से तुंगनाथ तक की बेहतरीन ट्रेक के लिए भी जाना जाता है।

परंपरागत रूप से, वार्षिक विश्व प्रसिद्ध चारधाम तीर्थयात्रा दीवाली के करीब बंद करनी पड़ती है, क्योंकि लंबे सर्दियों के महीनों में भारी बर्फबारी के कारण मंदिर के रास्ते दुर्गम हो जाते हैं। वसंत के बाद, बसंत पंचमी के आसपास, प्राचीन संस्कारों और अनुष्ठानों के अनुसार मंदिरों के फिर से खुलने की तारीखों की घोषणा की जाती है।

चारधाम खोलने की तारीखें:

  • यमनोत्री: 7 मई
  • गंगोत्री: 7 मई
  • केदारनाथ: 9 मई
  • बद्रीनाथ: 10 मई
  • तुंगनाथ: 10 मई
  • रुद्रनाथ: 19 मई
  • मद्महेश्वर: 21 मई
  • हेमकुंड: 25 मई