फिल्मी अंदाज में हुई लूट से हड़कम्प

0
810
काशीपुर में दिनदहाड़े सशस्त्र बदमाशों ने आवासीय क्षेत्र के बीचोंबीच में स्थित एक फाइनेंस कंपनी के कार्यालय में घुसकर कर्मचारियों और वहां मौजूद तीन ग्राहकों को बंधक बनाकर जमकर लूटपाट की। बदमाश कंपनी के दो लाख 67 हजार रुपए और पांच कर्मचारियों के मोबाइल, हजारों की नकदी और एटीएम कार्ड लूट ले गए। सूचना पर जनपद के एसएसपी ने घटनास्थल पर पहुंचकर मौका मुआयना करते हुए पुलिस को जरूरी दिशा निर्देश दिए ।
काशीपुर के जसपुर खुर्द इलाके में, आवासीय कालोनी स्थित, सेटिंग क्रेडिट केयर नेटवर्क कंपनी के कार्यालय में शाखा प्रबंधक मोहम्मद असलम, निवासी सिमावली मेरठ, सुशील कुमार निवासी, रजवीना औरंगाबाद बुलंदशहर, हिमांशु कुमार, ग्राम निराद, थाना चांदपुर, बिजनौर, अंशुल कुमार, निवासी शेखपुरी बिजनौर, ग्राहकों से वार्ता कर रहे थे। तभी पांच युवक अंदर घुसे, सभी के हाथों में पिस्टल थी और मुंह पर नकाब बंधा था। उन्होंने रुपये उनके हवाले करने को कहा। मोहम्मद असलम ने विरोध किया तो एक बदमाश ने उसके मुंह में पिस्टल डाल दी। उनके बाकी साथी पांचो कर्मचारियों को धक्के देते हुए कमरे के अंदर ले गए और उनके जूतों के फीते खोलकर उनके हाथ बांध दिए उसके बाद सभी के मुंह पर टेप चिपका दिया गया। बदमाशों ने वहां मौजूद तीन ग्राहकों को भी कमरे में बंद कर दिया।
ssp2
जिसके बाद बदमाशों ने वहां रखा सारा केश करीब 2 लाख, 67 हजार, 87 रुपए थैले में भर लिया और एक-एक कर सभी कर्मचारियों की तलाशी ली।  मोहम्मद असलम से 2 हजार, 800 रुपये, दो एटीएम कार्ड, आधार कार्ड, बैंक की पासबुक, पहचान पत्र, सुशील कुमार से 800 रुपये, हिमांशु की जेब से 700 रुपये निकाल लिए। सभी के दो-दो एटीएम कार्ड, आधार कार्ड, पैन कार्ड, बैंकों की पास बुकस और चार कर्मचारियों के आठ मोबाइल ले लिए और सभी के पास मे मिली घरों व बाइकों की चाबियां भी छीन ले गए। जाते समय कर्मचारियों की दो बाइकें भी ले गए। एक कर्मचारी का मोबाइल उनके हाथ नहीं लगा।
बदमाशो के जाने के बाद शाखा प्रबंधक मोहम्मद असलम ने  100 नंबर पर पुलिस को फोन किया जहां सूचना मिलने पर थाना आईटीआई पुलिस पहुंची। साथ ही अपर पुलिस अधीक्षक डॉ. जगदीश व सीओ राजेश भट्ट मौके पर पहुंचे और पूछताछ की। दिनदहाड़े डकैती की सूचना से जहां पुलिस महकमे में हड़कंप मच गया तो वहीं जनपद के एसएसपी सदानंद दाते ने घटनास्थल का मौका मुआयना करते हुए तत्काल बदमाशों की तलाश में पुलिस और एसओजी की टीमें रवाना कर दीं। बदमाशों ने घटना को इस अंदाज में अंजाम दिया कि आसपास रहने वालों को भनक भी नहीं लगी। सभी बदमाश पैदल आए थे। मोहम्मद असलम ने बताया ऑफिस में पांच बदमाश आए, जिन्होंने लूटपाट की, लेकिन ऑफिस के बाहर बरामदे में तीन चार और लोग भी थे।  आठ-नौ नकाबपोश हथियार बंद बदमाशों ने जिस दुस्साहस के साथ आबादी के बीच फाइनेंस कंपनी में डकैती डाली है। वह किसी छोटे-मोटे गिरोह का काम नहीं है। यह भाटी गैंग का ही काम होने की आशंका जताई जा रही है। यह प्रशिक्षित मालूम पड़ रहे थे। लूट के दौरान आपस में कोड वर्ड में बात कर रहे थे। सभी चाल-ढाल में चुस्त और सजग थे। मो. असलम ने बताया कि बातचीत के दौरान एक ने भाटी शब्द से दूसरे को बुलाया। कर्मचारियों ने बताया कि मुख्य युवक ने डकैती डालनेे से पहले स्वयं रेकी की है।
सीओ राजेश भट्ट एसएसपी सदानंद दाते ने भी कहा कि यह गैंग किसी बेजोड़ गैंग का हिस्सा प्रतीत होता है। सभी बदमाशों के पास एक जैसी पिस्टलें थी। पुलिस कप्तान सदानंद दाते ने बताया कि बदमाशों को पकड़ने के लिए तीन टीमें रवाना हो गईं। पुलिस को जल्दी ही कामयाबी मिलने की उम्मीद है।  उन्होंने बताया कि फाइनेंस कंपनी का कोई आदमी डकैतों से मिला होने की आशंका है। घटना के समय एक बदमाश ने मो. यामीन से कहा कि आज कैश कम क्यों है। इससे लगता है कि बदमाशों को कितना कैश रोज रहता है यह जानकारी थी, उन्होंने दावा किया कि जल्द ही बदमाशों को पकड़ते हुए घटना का खुलासा कर दिया जाएगा।