बसंत पंचमी पर्व 10 को

0
204

हरिद्वार,  ज्ञान की देवी मां सरस्वती की उपासना को श्रेष्ठ पर्व बसंत पंचमी इस बार 10 फरवरी को मनाया जएगा। बसंत पंचमी को बुद्धि और विद्या की देवा संरस्वती मां के जन्मोत्सव के रूप में मनाया जाता है। इस दिन मां सरस्वती की पूजा कर करने से मां सरस्वती की कृपा बनी रहती है।

पं. देवेन्द्र शुक्ल शास्त्री के अनुसार सरस्वती पूजन का प्रत्येक के जीवन में विशेष महत्व है। प्रत्येक व्यक्ति जो ज्ञान, सम्पदा और उन्नति के शिखर पर पहुंचना चाहता है उसे सरस्वती पूजन अवश्य करना चाहिए। हिंदू धर्म में मां सरस्वती को विद्या और बुद्धि की देवी माना गया है। वे छात्र जो पढ़ाई लिखाई में कमजोर हैं, बसंत पंचमी के दिन मां सरस्वती की पूजा करना उनके लिए विशेष लाभदायी होता है। इस दिन छात्र इस दिन अपनी किताब-कॉपी और कलम की भी पूजा करते हैं।

इस दिन कई लोग अपने शिशुओं को पहला अक्षर लिखना सिखाते हैं। बताया कि इस दिन सुबह उठकर स्नान कर पीले कपड़े वस्त्र धारण कर मां सरस्वती का विधि पूर्वक पूजन करना चाहिए। पूजन सामग्री में पीले पदार्थों का प्रयोग किया जाए तो उत्तम होता है। बताया कि इस बार पंचमी तिथि शनिवार 9 फरवरी की दोपहर 12 बजकर 25 बजे से शुरू होगी तथा

रविवार 10 फरवरी को दोपहर 2.08 बजे तक रहेगी। इस कारण 10 फरवरी को उदय तिथि में पंचमी होने के कारण सरस्वती पूजन करना श्रेयस्कर होगा। बताया कि इस दिन यज्ञोपतीव करवाना भी उत्तम होता है।