नहीं रहे कांग्रेस के मजबूत स्तंभ अहमद पटेल

0
128
अहमद पटेल

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता व राज्यसभा सदस्य अहमद पटेल का बुधवार तड़के निधन हो गया। वे 71 वर्ष के थे। कोरोना संक्रमित होने के बाद उन्हें कई स्वास्थय संबंधी परेशानियां हो रही थीं, जिसके चलते उन्हें गुरूग्राम के मेदांता अस्पताल में भर्ती कराया गया था। वहीं आज सुबह 3 बजकर 30 मिनट पर उन्होंने अंतिम स्वांस ली।

उप राष्ट्रपति, प्रधानमंत्री और राहुल गांधी ने जताया शोक
अहमद पटेल कांग्रेस के कद्दावर नेताओं में से एक थे और लंबे समय तक कांग्रेस अध्यक्षा रहीं सोनिया गांधी के काफी करीबी माने जाते थे। अहमद पटेल के निधन की सूचना मिलते ही सुबह उप राष्ट्रपति व राज्यसभा के सभापति, प्रधानमंत्री और कांग्रेस के वरिष्ठ नेता राहुल गांधी ने शोक संदेश जारी किया है। उप राष्ट्रपति ने अपने संदेश में लिखा कि वे एक श्रेष्ठ सांसद थे और हमेशा पार्टी लाइन से ऊपर उठकर लोगों से संबंध रखते थे।
प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने अहमद पटेल का समाचार सुनने के बाद उनके पुत्र फैसल को फोन कर शोक संवेदना प्रकट की। अपने शोक संदेश में कहा कि अहमद पटेल के आकस्मिक निधन से स्तब्ध हूं। उन्होंने सार्वजनिक जीवन में लंबा वक्त बिताया और लोगों की सेवा की। कांग्रेस पार्टी को मजबूती प्रदान करने में उनकी भूमिका को हमेशा याद रखा जाएगा।
कांग्रेस के वरिष्ठ नेता राहुल गांधी ने ट्वीटर पर लिखा कि यह हमारे लिए एक बेहद दुःखद दिन है। अहमद पटेल कांग्रेस पार्टी के एक मजबूत स्तंभ थे। वे पार्टी के लिए ही जीते थे और पार्टी के कठिन दौर में चट्टान की तरह खड़े होते थे। वे हमारे लिए एक अमूल्य धरोहर थे। हम हमेशा उनकी कमी महसूस करेंगे।