मकर सक्रांति पर पूजा-अर्चना के बाद खुले आदिबदरी के कपाट 

0
94
गोपेश्वर,  पंच बदरी मंदिरों में शामिल आदिबदरी मंदिर के कपाट एक माह तक बंद रहने के बाद मकर संक्राति पर्व पर विधि-विधान के साथ खोल दिये गये। इसके साथ ही अदिबदरी महाभिषेक महोत्सव का आगाज हो गया। कपाट खुलने पर भगवान नारायण की विशेष पूजा हुई। इस दौरान स्थानीय ग्रामीणों के साथ श्रद्धालुओं ने प्रार्थना की।
भगवान आदिबदरी धाम के कपाट ब्रहम मुहूर्त में विशेष पूजा-अर्चनाओं के साथ खोले गये।मंदिर के मुख्य पुजारी चक्रधर थपलियाल ने भगवान नारायण का अभिषेक कर वैदिक मंत्रों के साथ पूजा करवाई। इससे पूर्व पुजारी ने भगवान नारायण का सप्त सिंधु जल से स्नान करवाकर, पीले वस्त्रों से श्रृंगार कर अभिषेक किया। मंदिर समिति ने मंदिर परिसर को तीन कुंतल गेंदे के फूलों से सजाया था।
इसके साथ सात दिवसीय आदिबदरी महाभिषेक महोत्सव का आगाज हो गया। मंदिर समति के संरक्षक मंदिर समिति के संरक्षक नरेंद्र ने बताया कि यहां महोत्सव में सात दिनों तक मंदिर में पूजा-अनुष्ठान के साथ सांस्कृतिक कार्यक्रमों का आयोजन होगा। इस मौके पर गैंणा सिंह, अब्बल सिंह, राजेंद्र प्रसाद, चंद्र प्रकाश सहित सैकड़ों लोग मौजूद थे।