गुरुकुल कांगड़ी बना बीजेपी विधायक-एबीवीपी के बीच रण का मैदान

0
713
गुरूकुल कांगड़ी युनिवर्सिटी छात्र संघ चुनावों में मिली हार से गुस्साए एबीवीपी के हरिद्वार इकाई के छात्रों ने हरिद्वार ग्रामीण से विधायक स्वामी यतीशवरानंद के आश्रम के बाहर घरना प्रदर्शन किया। यही नहीं छात्रों ने कथित तौर पर विधायक के साथ धक्का मुक्की भी की। छात्रों का आरोप है कि विधायक ने एबीवीपी के उम्मीदवार के खिलाफ काम किया जिसके नतीजतन चुनावों में उसे हार का सामना करना पड़ा। नाराज छात्रों ने विधायक के खिलाफ नारेबाज़ी की और उनका पुतला भी फूंका। हालात तब बेकाबू हो गये जब छात्रों की भिड़ंत विधायक समर्थकों से हो गई। विधायक की दखलअंदाजी के बाद पुलिस ने एबीवीपी कार्यकर्ताओं के खिलाफ मामला दर्ज करा।
गुरुकुल कांगड़ी लंबे समय से एबीवीपी का गढ़ रहा है। शुक्रवार को हुए छात्र संघ चुनावों में एनएसयूआई समर्थित निर्दलीय उम्मीदवार विक्रम भुल्लर भारी बहुमत से जीत गया। एबीवीपी के एक धड़े ने इस हार के लिये विधायक को ज़िम्मेदार ठहराया। उनका आरोप है कि विधायक ने जानबूझ कर अपने प्रभाव का इस्तेमाल एबीवीपी उम्मीदवार तरुण चौहान को हराने में किया।
इसके साथ साथ उनका ये भी आरोप है कि विधायक ने छात्रों के साथ साथ युनिवर्सिटी स्टाफ और टीचरों पर भी भुल्लर को समर्थन देने का दबाव बनाया जबकि वो हमेशा एबीवीपी को समर्थन देने का दावा करते रहे।
वहीं दूसरी तरफ विधायक का कहना है कि ये उनहें बदनाम करने की साजिश है। उनका मानना है कि छात्र राजनीति में दखल करने का उनका कोई इरादा और ज़रूरत नहीं है। इस मामले को लेकर अब विधायक पार्टी के बड़े नेताओं से शिकायत करने की तैयारी कर रहे हैं।
वहीं पुलिस ने इस मामले में एबीवीपी करायकर्ताओं के खिलाफ जानबूझकर हानि पहुंचाने, सांति बंग करने आदि के मुकदमे दर्ज कर दिये हैं। इसके साथ ही विधायक की शिकायत पर आश्रम के आसपास अतिरिक्त सुराक्षा बल तैनात कर दिये हैं।