बाघों की खाल के साथ चार तस्कर गिरफ्तार

0
67
तस्कर

हरिद्वार वन प्रभाग के लक्सर क्षेत्र के शेखुपुरा में चार कुख्यात वन्यजीव तस्करों को वन महकमे और एसटीएफ हल्द्वानी की टीम ने पकड़ा है। तराई सेंट्रल वन प्रभाग के सुरक्षा दल व हल्द्वानी एसटीएफ की टीम कुछ वन्यजीव तस्करों की सुरागकसी में लगी थी। इनके पास बाघ की खाल होने की सूचना थी। आज इनकी सूचना उत्तर प्रदेश के बिजनौर में होने की मिली थी। इन दोनों टीमों ने इनका पीछा करना शुरू किया। बिजनौर से ये वन्यजीव तस्कर जब उत्तराखंड की सीमा में घुसे तो उन्हें सफलतापूर्व दबोच लिया गया। इस घटना के बाद हरिद्वार वन प्रभाग की टीम भी मौके पर पहुंची। वन महकमें और एसटीएफ हल्द्वानी की इस संयुक्त कार्रवाई में इन लोगों से दो बाघों की खाल की बरामदगी हुई है। भारत में बाघ प्रथम श्रेणी में संरक्षित हैं।

एस एस पी, एस टी एफ अजय सिंह ने बताया कि आज पकड़े गए चार अभियुक्तों में एक कुख्यात वन्यजीव तस्कर तोताराम का पुत्र हरिद्वारी निवासी नवांशहर पंजाब के अलावा बंटी नाथ पुत्र अमरनाथ निवासी घोसीपुरा, हरिद्वार, रामधारी पुत्र बरामल निवासी जालंधर, पंजाब तथा श्यामलाल पुत्र तारिया बाबरिया निवासी होशियारपुर, पंजाब शामिल हैं। चारों से पूछताछ की जा रही है कि आखिर कैसे और कहां इन बाघो का शिकार किया गया।

उन्होंने बताया की सेंट्रल वन प्रभग के सुरक्षा दल व हल्द्वानी एसटीएफ ने यह अभियान चलाया था। अभी पूछताछ जारी है। पूरी जांच के बाद ही इस प्रकरण के विषय में बताया जाएगा। हरिद्वार के डीएफओ दीपक कुमार ने भी हरिद्वार के लक्सर वन प्रभाग में इन चार कुख्यात वन्यजीव तस्करों की गिरफ्तारी की पुष्टि की है।