पिथौरागढ़ में बारिश से पुल और सड़क बहे, घरों में घुसा मलबा, एक महिला की मौत

0
272

देहरादून। सोमवार को राजधानी देहरादून सहित प्रदेश के ​अधिकांश हिस्सों में बारिश का क्रम जारी रहा। कई स्थनों पर बारिश से मलवा आने तथा भूस्खलन से मार्ग अवरूद्ध हो गये। पिथौरागढ़ जिले के तहसील-बगांपानी के गैला पत्थरकोट निवासी नारायणी देवी पत्नी स्व.नन्दन सिंह की मदकोट से घर जाते समय दोपहर करीब दो बजे पत्थर के चपेट में आने से खाई में गिरकर मौत हो गई। इसके अतरिक्त रविवार रात हुई भारी बारिश ने जमकर तबाई मचाई। तहसील-मुनस्यारी में मदकोट-बसन्तकोट निर्माणाधीन सड़क कटिंग का मलवा लगभग 14 परिवारों के घरों में घुस गया है।
राज्य आपातकालीन परिचालन केन्द्र के अनुसार सेराघाट सेरागांव में स्थानीय सहायक नदी का पैदल पुल क्षतिग्रस्त हो गया है। ग्रांम बसन्तकोट तहसील-मुनस्यारी का निर्माणाधीन पुल क्षतिग्रस्त। डिजियागाड़ में 12 मीटर स्पान का पुल बह गया है। मांगती पुल की एप्राच सड़क बह गयी है। तेजम नाले का बहाव बढ़ने से पैदल रास्ते बन्द हो गये हैं। प्राचार्य राजकीय महाविद्यालय मुनस्यारी के आवास को जाने वाला पैदल रास्ता क्षतिग्रस्त हो गया है। तहसील-मुनस्यारी के सेराघाट (दानीबगड) में उरेडा हाईड्रो पाॅवर प्रोजेक्ट डैम क्षतिग्रस्त हो गया है। जिले में कुल चार ग्रामीण मोटर मार्ग अवरूद्ध है। सोमवार को भी मुनस्यारी एवं गुंजी में तेज तथा धारचला एवं पांगला में हल्की बारिश क्रम जारी रहा।
वहीं उत्तरकाशी में ऋषिकेश-यमुनोत्री राष्ट्रीय राजमार्ग (94) औजरी डाबरकोट में लगातार हो रहे
भूस्खलन के कारण छोटे-बडे वाहनो के लिए यातायात अवरूद्ध हो गया। जिसे खोले जाने की कार्रवाई की जा रही है। चमोली जिले में छह ग्रामीण मोटर मार्ग अवरूद्ध है। जबकि देहरादून में चार मोटर मार्ग बंद है, बागेश्वर में एक तथा नैनीताल में आठ मोटर मार्ग अवरूद्ध हो गये है। जिन्हे खोले जाने का कर्रवाई कि जा रही है।
मौसम विभाग ने मंगलवार को कुमाऊं मण्डल में भारी बारिश का पूर्वानुमान जताया है। जनपद पिथौरागढ़, चंपावत, नैनीताल और उधमसिंह नगर के कुछ स्थानों पर भारी बारिश हो सकती है।
मुख्य सचिव उत्पल कुमार सिंह ने एडवाइजरी जारी कर इन जनपदों के जिलाधिकारियों को सतर्क रहने के निर्देश दिए हैं। खासतौर से मानसरोवर यात्रियों को सजग रहने और जिला प्रशासन से समन्वय बनाये रखने की सलाह दी गई है। आपदा प्रबंधन और एसडीआरएफ को भी हिदायत दी गई है कि एहतियात के तौर पर किसी भी स्थिति से निपटने के लिए तैयार रहें।