रोशनी में नहाया दरबार साहिब, आज होगा झंडे जी का आरोहण

0
135

दून के ऐतिहासिक श्री दरबार साहिब में सोमवार को श्री झंडे जी का आरोहण किया जाएगा। जिसमें देश-विदेश के दस लाख श्रद्धालु जुटेंगे। इसके लिए रंग-बिरंगी रोशनी और फूलों से श्री दरबार साहिब को सजा दिया गया है। जिसकी भव्यता देखते ही बन रही है। इसके अलावा मेले की तैयारियां भी जोरों पर चल रही हैं।

श्री दरबार साहिब प्रबंधन समिति की ओर से साजो-सज्जा के विशेष इंतजाम किए गए हैं। मेला अधिकारी भगवती प्रसाद सकलानी ने बताया कि पूरे दरबार साहिब परिसर में विशेष सजावट की गई है। खासकर रंग-बिरंगी रोशनी के बीच श्री दरबार साहिब बेहद आकर्षक दिखाई दे रहे हैं। उन्होंने बताया कि इस ऐतिहासिक धार्मिक स्थल का करीब 400 साल पुराना इतिहास है। जिसमें श्री गुरु राम राय ने विशाल झंडे जी को स्थापित किया था। तभी से श्री झंडे जी मेले में शामिल होने की परंपरा शुरू हुई। देश-विदेश से बड़ी संख्या में संगतें मेले में शामिल होने आती है। शनिवार को पंजाब, हरियाणा, हिमाचल, उत्तर प्रदेश, राजस्थान सहित देश के अलग-अलग हिस्सों से लाखों की संख्या में श्रद्धालु श्री दरबार साहिब पहुंचे। विदेशों से भी संगतों का आगमन शुरू हो गया है।

शनिवार को नित्य पूजा-क्रम के बाद श्री दरबार साहिब के सज्जादानशीन श्री महंत देवेंद्र दास महाराज ने संगतों को दर्शन देकर उन्हें श्री गुरु महाराज जी के बताए रास्ते पर चलने का संदेश दिया। मेले के कुशल संचालन के लिए मेला प्रबंधन समिति व संगतों को आवश्यक दिशा-निर्देश भी दिए। दूसरे पहर तक श्री दरबार साहिब परिसर संगतों से लगभग पैक हो गया।

श्री दरबार साहिब के जनसंपर्क अधिकारी भूपेंद्र रतूड़ी ने बताया कि मेला प्रबंधन की ओर से संगतों के भोजन, ठहरने, पानी व स्वास्थ्य सेवाओं को लेकर विशेष व्यवस्था की गई है। श्री दरबार साहिब के सेवादार संगतों की आवभगत, उनके रहने और खाने की व्यवस्थाओं में जुटे हैं। एसजीआरआर बिंदाल स्कूल, एसजीआरआर बांबे बाग स्कूल, एसजीआरआर तालाब स्कूल, मातावाला बाग, रेसकोर्स, राजा रोड सहित शहर की विभिन्न धर्मशालाओं और अन्य स्थानों में संगतों के लिए समुचित व्यवस्था की गई है।

केसर सिंह को मिलेगा दर्शनी गिलाफ चढ़ाने का सौभाग्य 

पंजाब के होशियारपुर जिले के गांव शिमली निवासी केसर सिंह इस बार दर्शनी गिलाफ चढ़ाएंगे। इसके लिए वह अपने परिवार समेत दून पहुंच चुके हैं। उनके पिता तेज सिंह ने 105 साल पहले मनोकामना पूरी होने पर दर्शनी गिलाफ चढ़ाने के लिए आवेदन किया था।

नामांकन व झंडा मेला, पुलिस की दोहरी परीक्षा 

आम चुनाव के लिए नामांकन का आखिरी दिन और उसी के साथ एतिहासिक झंडा मेला का आगाज। प्रमुख दल कांग्रेस के प्रत्याशी के साथ ही जो भी चुनाव लडऩा चाहते हैं, वे सभी सोमवार को नामांकन करेंगे। यानी शक्ति-प्रदर्शन व जुलूस से शहर पैक रहना पहले ही तय है। उधर, झंडा मेले भी शुरू होना है व हजारों की संख्या में संगतें दून पहुंच चुकी हैं। सोमवार को श्रद्धालुओं की संख्या और बढ़ेगी। ऐसे में सोमवार सुबह से रात तक शहर में यातायात व्यवस्था ठप रह सकती है। सुरक्षा तो बड़ी चुनौती बनी ही हुई है। इस दोहरी परीक्षा ने पुलिस की चिंता और बढ़ा दी है। शनिवार को पुलिस अधिकारी सुबह से शाम तक इस परीक्षा से पार पाने पर मंथन करते रहे। ये दीगर बात है कि पुलिस दावा कर रही है कि आमजन को किसी प्रकार की परेशानी नहीं होगी, पर यातायात प्रबंधन कैसे हो पाएगा, यह बड़ी चुनौती साबित हो सकता है।

कल का दिन शहरवासियों व सैलानियों के लिए भारी पड़ सकता है। नामांकन का आखिरी दिन है। चुनाव लड़ने के लिए 31 लोगों ने नामांकन पत्र खरीदे हैं, मगर अब तक भाजपा सहित मात्र तीन प्रत्याशियों ने अपना नामांकन दाखिल किया है। लिहाजा, कांग्रेस सहित अन्य दलों व निर्दलीयों का नामांकन सोमवार को ही होगा। नामांकन समाप्त होने तक शहर में रैलियों की बाढ़ लगी रहना तय है। जिसके चलते सुबह से ही कलेक्ट्रेट व आसपास का पूरा ट्रैफिक डायवर्ट किया गया है।

वहीं, सोमवार को झंडा जी का आरोहण भी है। बाहर से बड़ी संख्या में श्रद्धालुओं के दून आने के कारण ट्रैफिक दबाव पहले ही बढ़ गया है। इसके कारण सोमवार को सहारनपुर रोड के साथ ही जीएमएस रोड, कांवली रोड सहित पूरे शहर में इसका असर साफ नजर आएगा। ऐसे में चुनावी रैलियों की भीड़ और झंडा आरोहरण के दौरान जुटने वाली भीड़ को नियंत्रित करना व सुरक्षा व्यवस्था संभालना पुलिस के लिए दोहरी चुनौती बना हुआ है। एसएसपी निवेदिता कुकरेती ने बताया कि आमजन को कोई परेशानी न हो, इसके लिए हर संभव प्रयास किए जाएंगे।

झंडा मेले में कड़ी रहेगी सुरक्षा 

राजधानी के एतिहासिक झंडे मेले की सुरक्षा के लिए पुलिस-प्रशासन ने कमर कस ली है। मेला स्थल पर अस्थाई पुलिस थाना बनाया गया है व सहारनपुर चौक से झंडा साहिब जाने वाला यातायात डायवर्ट रहेगा। समारोह के वक्त अतिरिक्त पीएसी झंडा साहिब के चारों ओर तैनात रहेगी। आइजी अजय रौतेला ने संदिग्धों पर पैनी निगाह रखने के निर्देश दिए हैं। सोमवार से शुरू हो रहे झंडा मेले के लिए पीएसी ने अभी से मेला स्थल पर डेरा डाल लिया है।

सुरक्षा संबंधी जानकारी देते हुए एसएसपी निवेदिता कुकरेती ने बताया कि पीएसी के जवानों को लगातार मेला स्थल पर पेट्रोलिंग करने के आदेश दिए गए हैं। जेबकतरों व चेन स्नेचरों पर विशेष निगाह रखी जाएगी। गोपनीय शाखा की एक टीम भी मेला स्थल पर तैनात रहेगी। एसपी सिटी श्वेता चौबे, सीओ सिटी समेत कोतवाल को सुरक्षा का जिम्मा सौंपा गया है। मेले में दो इंस्पेक्टर, 20 उपनिरीक्षक, 10 महिला उपनिरीक्षक, 12 हेड कांस्टेबल, 85 कांस्टेबल, एक कंपनी पीएससी समेत ट्रैफिक पुलिस फोर्स तैनात की गई है। सीओ सिटी को मेले का प्रभारी नियुक्त किया गया है।

अस्थाई मेला थाने पर एक सब इंस्पेक्टर, सशस्त्र पुलिस के साथ तैनात रहेगा। फायर ब्रिगेड की एक गाड़ी मेला स्थल पर तैनात रहेगी। जबकि दो गाड़ियों को रिजर्व में रखने का आदेश दिया गया है। जेबकतरों और चेन स्नेचरों को पकड़ने के लिए सादे कपड़ों में पुलिसकर्मी तैनात रहेंगे। यातायात संचालन सुचारू रखने के लिए ट्रैफिक अफसरों को जिम्मेदारी

वहीं, सोमवार को झंडा जी का आरोहण भी है। बाहर से बड़ी संख्या में श्रद्धालुओं के दून आने के कारण ट्रैफिक दबाव पहले ही बढ़ गया है। इसके कारण सोमवार को सहारनपुर रोड के साथ ही जीएमएस रोड, कांवली रोड सहित पूरे शहर में इसका असर साफ नजर आएगा। ऐसे में चुनावी रैलियों की भीड़ और झंडा आरोहरण के दौरान जुटने वाली भीड़ को नियंत्रित करना व सुरक्षा व्यवस्था संभालना पुलिस के लिए दोहरी चुनौती बना हुआ है। एसएसपी निवेदिता कुकरेती ने बताया कि आमजन को कोई परेशानी न हो, इसके लिए हर संभव प्रयास किए जाएंगे।

झंडा मेले में कड़ी रहेगी सुरक्षा 

राजधानी के एतिहासिक झंडे मेले की सुरक्षा के लिए पुलिस-प्रशासन ने कमर कस ली है। मेला स्थल पर अस्थाई पुलिस थाना बनाया गया है व सहारनपुर चौक से झंडा साहिब जाने वाला यातायात डायवर्ट रहेगा। समारोह के वक्त अतिरिक्त पीएसी झंडा साहिब के चारों ओर तैनात रहेगी। आइजी अजय रौतेला ने संदिग्धों पर पैनी निगाह रखने के निर्देश दिए हैं। सोमवार से शुरू हो रहे झंडा मेले के लिए पीएसी ने अभी से मेला स्थल पर डेरा डाल लिया है।

सुरक्षा संबंधी जानकारी देते हुए एसएसपी निवेदिता कुकरेती ने बताया कि पीएसी के जवानों को लगातार मेला स्थल पर पेट्रोलिंग करने के आदेश दिए गए हैं। जेबकतरों व चेन स्नेचरों पर विशेष निगाह रखी जाएगी। गोपनीय शाखा की एक टीम भी मेला स्थल पर तैनात रहेगी। एसपी सिटी श्वेता चौबे, सीओ सिटी समेत कोतवाल को सुरक्षा का जिम्मा सौंपा गया है। मेले में दो इंस्पेक्टर, 20 उपनिरीक्षक, 10 महिला उपनिरीक्षक, 12 हेड कांस्टेबल, 85 कांस्टेबल, एक कंपनी पीएससी समेत ट्रैफिक पुलिस फोर्स तैनात की गई है। सीओ सिटी को मेले का प्रभारी नियुक्त किया गया है।

अस्थाई मेला थाने पर एक सब इंस्पेक्टर, सशस्त्र पुलिस के साथ तैनात रहेगा। फायर ब्रिगेड की एक गाड़ी मेला स्थल पर तैनात रहेगी। जबकि दो गाड़ियों को रिजर्व में रखने का आदेश दिया गया है। जेबकतरों और चेन स्नेचरों को पकड़ने के लिए सादे कपड़ों में पुलिसकर्मी तैनात रहेंगे। यातायात संचालन सुचारू रखने के लिए ट्रैफिक अफसरों को जिम्मेदारी सौंपी गई है। बस अड्डों, रेलवे स्टेशन, टैक्सी स्टैंड, होटलों व धर्मशाला में चेकिंग की जा रही है।

यहां रहेगा रूट डायवर्ट 

-सहारनपुर चौक से झंडा साहिब की तरफ नहीं जाएंगे वाहन

-तिलक रोड से झंडा बाजार में रहेगी नो-एंट्री

-हनुमान चौक से दरबार साहिब की तरफ नहीं जा सकेंगे वाहन

-सहारनपुर चौक से कांवली रोड पर नहीं होगी वाहनों की एंट्री

-बल्लीवाला चौक जाने वाले वाहन भूसा स्टोर-लक्ष्मण चौक होकर जाएंगे

यहां रहेगा ट्रैफिक दबाव 

-सहारनपुर चौक, कांवली रोड, आढ़त बाजार, सहारनपुर रोड, माता वाला बाग, प्रिंस चौक, तिलक रोड

एसएसपी निवेदिता कुकरेती का कहना है कि ट्रैफिक संचालन सुचारू रखने के लिए स्थिति के हिसाब से निर्णय लिया जाएगा। यदि किसी रोड पर दबाव ज्यादा बढ़ा तो तत्काल वहां का ट्रैफिक डायवर्ट भी किया जा सकता है। ट्रैफिक पुलिस की अतिरिक्त टीमें नामांकन जुलूस और झंडा मेला के आसपास यातायात का जिम्मा संभालेंगी। मेला की सुरक्षा के लिए पर्याप्त पुलिस बल नियुक्त किया गया है। संदिग्धों पर नजर रखने को कहा गया है।