भारत में जन्मे खेलों में शरीर और मन को तंदुरुस्त रखने के सभी गुण : राठौड़

0
64

नई दिल्ली, केंद्रीय खेल मंत्री राज्यवर्धन सिंह राठौड़ ने कहा कि भारत में जन्मे खेलों में शरीर और मन को तंदुरुस्त रखने के सभी गुण हैं।

अल्टीमेट खो-खो (लीग) के लांच के अवसर पर वीडियोकांफ्रेंसिंग के जरिए खेलमंत्री ने कहा कि ये खेल जीवन की आपाधापी और विकास की दौड़ में कहीं खो गए थे, लेकिन अब जबकि भारत खुद एक वैश्विक ताकत के तौर पर उभर चुका है, भारत में जन्में खेलों को दुनिया भर में स्थापित किया जाना चाहिए।

राठौड़ ने कहा कि, “अल्टीमेट खो-खो सही समय पर लिया गया एक सही फैसला है। हमने दुनिया भर में कबड्डी का जलवा देखा है। यह एक वैश्विक खेल बन चुका है। वैश्विक स्तर पर भारत की ताकत बढ़ी है और ऐसे में अब समय आ गया है कि हम भारत में जन्मे खेलों को दुनिया भर में प्रचारित और प्रसारित करें और अल्टीमेट खो-खो इस दिशा में एक मील का पत्थर साबित होगा।”

उन्होंने कहा कि खेल मंत्रालय ने खो-खो को हाल ही में सम्पन्न दूसरे खेलो इंडिया गेम्स में शामिल किया, क्योंकि यह भारत के हर स्कूल में खेला जाता है और मुझे यकीन है कि अल्टीमेट खो-खो के कारण यह भारत के शहरी समाज के साथ-साथ दुनिया भर में लोकप्रिय होगा।

उल्लेखनीय है कि भारतीय खो-खो महासंघ ने डाबर इंडिया के साथ मिलकर अल्टीमेट खो-खो (लीग) की शुरुआत की है। इस लीग का पहला संस्करण आठ टीमों के बीच खेला जाएगा। दुनिया भर के 20 देशों में खो-खो खेला जाता है और इन देशों से खिलाड़ियों को लेकर पहले संस्करण का ड्राफ्ट तैयार किया जाएगा। इन देशों में इंग्लैंड, दक्षिण कोरिया, ईरान, बांग्लादेश, नेपाल और श्रीलंका प्रमुख हैं।