सांसद खंडूरी पर कांग्रेस के बयान को लेकर भाजपा ने जताई आपत्ति

0
118

(देहरादून) भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) ने पूर्व रक्षा मामलों की स्थाई संसदीय समिति के अध्यक्ष व पूर्व मुख्यमंत्री व सांसद जनरल भुवन चन्द्र खंडूरी पर कांग्रेस की ओर से दिए गए बयान पर नाराजगी जताई है। साथ ही कहा है कि कांग्रेस इस तरह के गलत बयान देकर देश की रक्षा व व खण्डूडी के सम्मान के साथ मजाक कर रही है। इसलिए उसे अपने दिए बयान पर माफी मांगनी चाहिए।
भाजपा प्रदेश मीडिया प्रमुख डॉ. देवेंद्र भसीन ने आज यहाँ कहा कि रक्षा मामलों पर संसद की स्थाई समिति व उसके अध्यक्ष रहे पूर्व मुख्यमंत्री व सांसद जनरल भवन चन्द्र खंडूरी के बारे में कांग्रेस की ओर से दिए गए बयान को घोर आपत्तिजनक बताया है। भाजपा का कहना है कि स की ओर से देश की सुरक्षा को लेकर ग़ैर ज़िम्मेदारी दिखाई गई हैं वहीं जनरल खंडूरी लेकर भी दिया गया वक्तव्य भी पूरी तरह ग़लत और निराधार है।
उन्होंने कहा कि कांग्रेस के बयान में देश की सुरक्षा के बारे में गम्भीर बात कही गई।यह कांग्रेस की उसी प्रवृति का परिचायक है। जिसके तहत वह राफ़ेल का मुद्दा उठा रही है चाहे देश का कुछ भी नुक़सान हो जाए।दूसरी ओर जनरल खंडूरी को समिति के अध्यक्ष पद से हटाए जाने का जो बयान दिया गया वह भी ग़लत व बहुत आपत्तिजनक है।
उन्होंने कहा कि जनरल खंडूरी भाजपा के साथ-साथ उत्तराखंड व देश के बड़े नेता है और उनका सर्वत्र सम्मान हैं। उनके संसद की रक्षा सलहकार समिति के अध्यक्ष पद को लेकर कांग्रेस नेताओं ने जिस प्रकार आधारहीन बयानबाज़ी की है वह ग़लत होने साथ जनरल खंडूरी के सम्मान के विपरीत है। इस बयानबाज़ी में केंद्र सरकार पर आधार हीन आरोप लगाने के साथ साथ जनरल खंडूरी को विवाद में डालने की कोशिश की गई है जो नितांत अनुचित है।
उन्होंने बताया कि जनरल खंडूरी ने स्वयं कहा है और जन खंडूरी से बात करके भाजपा प्रदेश अध्यक्ष अजय भट्ट ने भी स्पष्ट किया है है कि रक्षा सम्बंधी संसद की स्थाई समिति के अध्यक्ष पद पर उनका कार्यकाल पूरा हो गया था। इसी क्रम में समिति के नए अध्यक्ष का मनोनयन किया गया है। नए अध्यक्ष कलराज मिश्र भी केंद्र में मंत्री रहे हैं और वे भी भाजपा के सबसे वरिष्ठ नेताओं में से एक हैं। साथ ही संसद की 24 स्थाई समितियाँ हैं और सितम्बर में कई समितियों के नए अध्यक्ष मनोनीत हुए हैं। सभी सांसद एक न एक समिति के सदस्य होते हैं। इस प्रकार के परिवर्तन सामान्य प्रक्रिया का अंग हैं।
डॉ. भसीन ने कहा कि सच यह है कि उत्तराखंड व राष्ट्रीय स्तर पर कांग्रेस गहरे संकट से गुज़र रही है। उत्तराखंड में कांग्रेस का आंतरिक संघर्ष इस समय अपने चरम पर है । कांग्रेस नेता इससे ध्यान हटाने के लिए अनर्गल बयान देते रहते है। कांग्रेस नेतृत्व की यह समस्या उनके राष्ट्रीय अध्यक्ष से लेकर नीचे तक है। लेकिन न तो भाजपा और न ही जनता को यह स्वीकार्य है।
डॉ. भसीन ने कांग्रेस से माँग की है कि यदि उनमें ज़रा भी नैतिकता है तो उनके द्वारा अपने बयानों के लिये माफ़ी माँगनी चाहिए। बाकी जनता ने कांग्रेस का पहले भी हिसाब किया है और आगे भी करेगी।