देहरादून में पढ़ रहे कश्मीरी छात्र का हो सकता है आतंकी कनेक्शन

0
37

(देहरादून) देहरादून में पढ़ रहे कश्मीरी छात्र के आतंकी संगठन हिजबुल मुजाहिद्दीन में शामिल होने की सूचना है। यह दून का दूसरा मामला है, जब यहां पढ़ रहा कश्मीरी छात्र किसी आतंकी संगठन में शामिल हुआ है। छात्र की मां ने वीडियो मैसेज जारी कर बेटे के वापस लौटने की अपील की है। इधर, केंद्रीय सुरक्षा एजेंसियों के साथ ही मिलिट्री इंटेलीजेंस और सेना ने देहरादून में संपर्क साधा है। यह छात्र बीते 20 सितंबर को दून से कश्मीर के लिए निकला था, उसके बाद से उसका पता नहीं है।

अपर पुलिस महानिदेशक अशोक कुमार ने इस मसले पर बात करते हुए कहा कि, “2016 से अलपाईन इंस्टीट्यूट में पढ़ने वाला शोएब अहमद  20 सितंबर को दून से कश्मीर के लिए निकला था, उसके बाद से उसका पता नहीं है।शोएब की मां का कहना है कि उसके बेटे ने किसी आतंकवाद संगठन को ज्वाईन कर लिया है।हालांकि इस पर जांच चल रही है और शोएब को लेकर जुटाई जा रही जानकारी को जल्द ही सार्वजनिक किया जाएगा।”

आपको बतादें कि जम्मू-कश्मीर के बुमराट (कुलगाम) का रहने वाला छात्र शोएब अहमद लोन, नंदा की चौकी स्थित एल्पाइन इंस्टीट्यूट में बीएससी (आईटी) पांचवें समेस्टर का छात्र है, उसने यहां 2016 में दाखिला लिया था। वह कॉलेज से बाहर हॉस्टल में रह रहा था। 20 सितंबर को शोएब संस्थान से घर जाने की बात कहकर गया। चंडीगढ़ से उसकी फ्लाइट थी, लेकिन वह घर नहीं पहुंचा। सूत्रों के मुताबिक शोएब की मां ने जम्मू-कश्मीर में सुरक्षा एजेंसियों से संपर्क साधने के साथ ही फेसबुक पर बेटे के वापस घर लौटने का भवनात्मक संदेश जारी किया, जिसमें उन्होंने बेटे के आतंकी संगठन में शामिल होने की बात कही है।

इस मामले में नौवीं राष्ट्रीय राइफल के कमांडर भी शोएब को लेकर जानकारी जुटा रहे हैं। उन्होंने दून स्थित एल्पाइन इंस्टीट्यूट से भी संपर्क साधा है। इस सूचना के बाद देहरादून पुलिस के साथ ही स्थानीय अभिसूचना इकाई और केंद्रीय जांच एजेंसियां भी सतर्क हो गई हैं। उन्होंने इंस्टीट्यूट के साथ ही शोएब के सहपाठियों से जानकारी ली है। संस्थान के निदेशक डा. एसके चौहान ने बताया कि, “छात्र को लेकर सारी जानकारी और उसके दाखिले से जुड़ी फाइल सेना को उपलब्ध करा दी गई है। शोएब के बारे में ज्यादा कुछ नहीं बता सकते हैं। क्योंकि सेना और पुलिस इस मामले की पड़ताल कर रहे हैं।

ढाई वर्ष से ज्यादा वक्त रहा दून में
आतंकी संगठन में शामिल शोएब अहमद 12वीं की पढ़ाई करने बाद वर्ष 2016 में बीएससी आईटी की पढ़ाई करने के लिए दून आया। करीब ढाई वर्ष पढ़ाई करने के दौरान शायद वह किसी आतंकी संगठन के संपर्क में आया और अचानक गायब हो गया। इसके बाद घर और संस्थान से किसी परिचित से भी संपर्क नहीं साधा।

मिलने वाले और करीबी छात्र रडार पर 
कश्मीर से लोन से कौन-कौन मिलने आया? क्या उनमें कोई आतंकी चेहरा था या नहीं? यहां रहने के दौरान वह कैसे आतंकियों से संपर्क में आया, वह फोन या व्हट्सएप के जरिए विदेश में संपर्क तो नहीं करता था। पुलिस और इंटेलीजेंस ने इस तरह के सवाल तलाशने के लिए उसके हॉस्टल संचालक, वार्डन, स्कूल के डीन, साथी छात्रों से भी उसके बारे में जानकारी जुटाई है, लेकिन उसका आतंकी कनेक्शन जुटाना पुलिस के बड़ी मुसीबत बना हुआ है। पुलिस ने कश्मीर के साथ ही सेलाकुई में उसके परिचित छात्रों से उसकी जानकारी के लिए सवाल करने शुरू कर दिए हैं।