पुलिस के फोन पर रहेगा अपराधियों का रिकॉर्ड

0
63

ऊधमसिंहनगर,  अब अपराधियों पर नकेल कसने के लिए फेस रिकेनाइजेशन के लिए प्रतिबंव ऐप की लांचिंग इस्तमाल किया जायेगा। इसके लिए जिले के पुलिस कर्मियों को प्रशिक्षण दिया गया है। इस ऐप के जरिए अपराधी, उनके गैंग, अपराध करने का तरीका, उनकी क्रिमिनल हिस्ट्री एक क्लिक पर मिल सकेगी। जिले में 2014 से 2018 तक पकड़े गए अपराधियों का डेटा फीड किया जाएगा। डीसीआरबी को इसकी नोडल एजेंसी बनाया गया है।

जिले के एसएसपी बरिंदरजीत सिंह ने बताया कि, “प्रतिबंव नामक ऐप अब पुलिस कर्मियों के मोबाइल फोन पर उपलब्ध होगी। इस ऐप से उत्तर प्रदेश, पंजाब, बिहार, तेलंगाना और उत्तराखंड जुड़े हुए हैं। उन्होंने बताया कि इस ऐप के जरिए एक क्लिप पर अपराधियों की सारी जानकारी उपलब्ध होगी। जिले में पकड़े जाने वाले अपराधियों की तस्वीर, उनके गैंग की डिटेल, गैंग के वारदात करने का तरीका, गंभीर अपराधों का ब्यौरा, लापता लोगों की तस्वीर और डिटेल अपलोड की जाएगी। अपराधियों की सारी डिटेल ऑन लाइन होगी, जिससे कहीं भी वारदात होने पर अपराधी जल्द पुलिस की गिरफ्त में होंगे।”

एसटीएफ के प्रशिक्षक वेदप्रकाश थपलियाल ने जिले के सभी निरीक्षकों, थाना प्रभारियों, एसओजी के कर्मियों को व्यापक प्रशिक्षण दिया कि उन्हें कैसे ऐप डाउनलोड करना है और किस प्रकार अपराध व अपराधियों का पूरा ब्यौरा दर्ज करना है। प्रतिबंव ऐप प्ले स्टोर से ही डाउनलोड किया जाएगा, लेकिन सिर्फ पुलिसकर्मी इसे डाउनलोड कर पाएंगे। आम लोग न तो इस ऐप को डाउन लोड कर पाएंगे और न ही किसी प्रकार की कोई जानकारी सीधे हासिल कर पाएंगे। सामान्य व्यक्ति इसमें कोई डाटा भी फीड नहीं कर पाएगा। माना जा रहा है कि इसके लिए सीक्रेट कोड का इस्तेमाल करना होगा।