कौन है ”कड़क छोरी पायल” जो दून वासियों के दिलों पर करती है राज

0
125

मैं नई दिशा में उड़ने को तैयार हूं,आंखों में हजार सपने बसा,

खुला आकाश संभावनाओं से भरा,ये कल्पनाओं से परिपूर्ण हैं,

बंधन से आजाद,आशाओं के पंख पसार,

होठों पर चिरकाल के लिए मुस्कुराहट है सजी,सोच में सिर्फ और सिर्फ सकारात्मकता लिए ,

हां मैं अब विशाल गंगा में ऊंची,मगर धरातल की महक लिए उड़ान भरने को तैयार हूं

मैं नई दिशा में उड़ने को तैयार हूं।।  (पायल)

ऐसी ही कुछ पॉजिटिव और शानदार बातों से देहरादून वासियों की शामों को और अधिक मजेदार बनाने आती हैं कड़क छोरी पायल, नाम तो सुना ही होगा? अगर नहीं सुना तो रेड-एफएम पर शाम पांच बजे जरुर सुने आरजे पायल का शो।

अक्सर रेडियो सुनते हुए हमारे दिमाग में एक बात आती है कि कौन है ये लोग? कहां से आते हैं? क्या करते हैं? और कैसे दिखते हैं? खैर इन सभी सवालों की वजह से इस बार नारी दिवस पर हमने देहरादून के रेड एफएम की आर जे पायल से खास मुलाकात की और उनके बारे में थोड़ा जानने की कोशिश की।

यू तो पायल मूल रुप से हरियाणा की निवासी है लेकिन अब उनका परिवार मुजफ्फरनगर में रहता है।साल 2007 से अपने कैरियर की शुरुआत करने वाली पायल बहुत ही कम उम्र से एक रेडियो जॉकी की तरह काम कर रही हैं। घर में मम्मी के अलावा तीन और भाई बहन हैं। शुरुआती पढ़ाई के दौरान पॉलीटेक्निक पूरी की और फिर रेडियो मैनेजमेंट का कोर्स करने के बाद पहली नौकरी साल 2007 में एक रेडियो जॉकी की तरह। सफर आसान नहीं था और ना ही पायल इस बात को लेकर बहुत ज्यादा श्योर थी की वह एक अच्छी आर.जे बन सकती हैं, लेकिन उनकी छोटी बहन ने उन्हें हमेशा प्रेरित किया।पायल ने कुछ साल पहले अपनी दादी को खो दिया है लेकिन उनकी बातें और उनकी प्रेरणा हमेशा पायल के साथ हैं।

किशोर कुमार की जबरदस्त फैन पायल कहती हैं कि, “बचपन से ही मुझे गाने सुनने का बहुत शौक था खासकर किशोर कुमार के गाने।देश के अलग-अलग शहरों अजमेर,उदयपुर,जोधपुर,नोएडा नागपुर में काम करने के बाद अब वह देहरादून में काम कर रही हैं।”

पायल कहती हैं कि, “देहरादून आना और काम करना मेरे लिए थोड़ा अलग सा था क्योंकि यहां मेरी नानी का घर है।बचपन से यहां आना जाना लगा रहता था और अब मैं इसी शहर में काम कर रही हूं।”

कुछ साल पहले अपने पापा को खो देने की वजह से अपनी मां और दादी के साथ पायल बहुत ज्यादा जुड़ी रहती हैं। हालांकि घर में ज्यादा महिलाएं होने की वजह से उन्हें नारी शक्ति का अंदाजा बचपन से ही था।पायल की एक बहन लखनऊ में रेडियो इंडस्ट्री में है, इसके अलावा एक बहन मुंबई में एनिमेटर है और भाई नोएडा में सॉफ्टवेयर डेवेलपर की तरह काम करते हैं।

पायल के स्वभाव की सरलता और उनकी बेबाक स्वाभाव लोगों को कितना पसंद हैं इसका अंदाजा आप उनके शो की लोकप्रियता से लगा सकते हैं। शो को थीम गाना ही हर किसी के जुबान पर रहता हैं, आई पायल, छाई पायल,आई पायल और इसके अलावा पायल को उनके फैंस कड़क छोरी पायल के नाम से भी जानते हैं।

पायल अपने सभी फैंस को एक ही बात कहना चाहती हैं कि, “जिंदगी में हमेशा खूब मेहनत करो और साथ ही हर वो चीज करो जो तुम्हें लगता है तुम्हें करनी है।वो करो जो हमेशा करना चाहते थे और जो करके खुशी मिलेगी।अपनी पहचान बनाओं। खुद से प्यार करो और अपने आसापास  वालों को भी प्यार देना पायल का मंत्रा है।आखिरी में पायल कहती हैं कि मेहनत का कोई शॉर्ट कट नहीं है, इसलिए कड़ी मेहनत और लगन से अपना काम करो सफलता जरुर मिलेगी।”

और इसका जीता जागता उदाहरण पायल हैं।