दून मैराथन दौड़ में इथोपिया और केन्या के धावकों का रहा दबदबा

0
30

देहरादून । उत्तराखंड पुलिस द्वारा आयोजित मैराथन-रन अगेंस्ट ड्रग्स, रन फॉर लाइफ में देश-विदेश के हजारों युवाओं ने हिस्सा लिया। 21 किमी की 18 से 45 आयु वर्ग की दौड़ में महिला और पुरूष दोनों वर्गों में इथोपिया और केन्या के धावकों का दबदबा रहा।

रविवार सुबह देहरादून में नशे के खिलाफ हाफ मैराथन दौड़ हुई। इस दौड़ में इथोपिया के धावकों ने खिताब अपने नाम कर लिया। इथोपिया के अबेरा केटेमा ने पुरुष वर्ग और जिनासोर्क अम्बी ने महिला ओपन वर्ग का गोल्ड मेडल जीता। इस मैराथन में 21 किलोमीटर और 10 किलोमीटर दौड़ का आयोजन किया गया। 20 हजार से ज्यादा लोगों ने दौड़ के लिए रजिस्ट्रेशन कराया था। इस मैराथन में इथोपिया के अबेरा केटेमा ने पुरुष वर्ग और जिनासोर्क अम्बी ने महिला ओपन वर्ग का गोल्ड मेडल जीता। जिन्हें विजेता के तौर पर एक लाख का पुरस्कार मिला। पुरुष वर्ग में केन्या के इब्राहिम ने रजत और इथोपिया के ताया बबेकर ने कांस्य पदक जीता। महिला वर्ग में इथोपिया की केरेन जेबेट ने रजत, ब्रिगिड जेरोनो ने कांस्य पदक जीता।

 

21 किमी के 45 आयु वर्ग में पुरुष वर्ग में हरियाणा के अनिल कुमार ने प्रथम, देहरादून के मुकेश राणा द्वितीय, देहरादून के जगदीश राणा तृतीय स्थान पर रहे। जबकि 21 किमी के 45 आयु वर्ग में महिला वर्ग में नमीता पांडे ने प्रथम, एम चंद द्वितीय शालिनी अग्रवाल ने तीसरा स्थान प्राप्त किया। 10 किमी की ओपन दौड़ में महिला वर्ग में देहरादून की शोभा राणा फर्स्ट, वाराणसी की शांति राय सेकंड, हरियाणा की रेनू तीसरी स्थान पर रही। 10 किमी ओपन वर्ग के पुरुष वर्ग में समीर प्रथम, हैदराबाद के सनकार मनथापा दूसरे स्थान पर, देहरादून के परमानंद तीसरे स्थान पर रहे। 10 किमी की 45 आयु वर्ग की महिला वर्ग में देहरादून की मीना सिंह प्रथम, देहरादून की अंजू सिंह द्वितीय, देहरादून की अनीता तृतीय स्थान पर रही। जबकि अंडर 18 गर्ल्स वर्ग में काशीपुर की मनीषा प्रथम, काशीपुर की तनु शर्मा द्वितीय, नेहा सैनी उत्तर प्रदेश तृतीय स्थान पर रही। 10 किमी के अंडर 18 बॉयज वर्ग में दिल्ली के देवेश प्रथम, आशू कुमार द्वितीय मोहम्मद मेहराज देहरादून तृतीय स्थान प्राप्त किया।

इससे पहले सीएम त्रिवेंद्र सिंह रावत ने हरी झंडी दिखाकर हाफ मैराथन दौड़ की शरू किया था।
मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने युवाओं से अपील की है कि हर प्रकार के नशे से दूर रहे तथा नशे के विरुद्ध अभियान में सक्रिय भागीदारी करें। मुख्यमंत्री ने कहा कि नशा न केवल युवा पीढ़ी को शारीरिक व मानसिक रूप से कमजोर करता है बल्कि देश को कमजोर करने का सुनियोजित प्रयास है। उन्होंने कहा कि युवा ना केवल स्वयं नशे से बचें अपितु अन्य लोगों को भी नशे के खिलाफ जागरूक करें। मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र ने कहा कि नशा मात्र व्यक्तिगत समस्या नहीं है बल्कि इसके व्यापक सामाजिक, आर्थिक व राष्ट्रीय दुष्प्रभाव है। युवा पीढ़ी अपने परिवार व समाज की मर्यादाओं, विश्वास व सम्मान को बनाए रखें तथा नशे से दूर रहे। इस अवसर पर मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र ने उपस्थित प्रतिभागियों को नशे के विरुद्ध अभियान की शपथ दिलाई। मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र ने उत्तराखंड पुलिस को नशे के खिलाफ अभियान के उद्देश्य से मैराथन आयोजित करने के लिए शुभकामनाएं दी।
इस अवसर पर नवनिर्वाचित मेयर देहरादून सुनील उनियाल गामा, पुलिस महानिदेशक अनिल रतूड़ी, अपर पुलिस महानिदेशक अशोक कुमार सहित वरिष्ठ अधिकारी तथा हजारों की संख्या में प्रतिभागी उपस्थित थे।