कैबिनेट मंत्री के बयान से मची खलबली

0
33

देहारादून। बीजेपी के कद्दावर कैबिनेट मंत्री ने शीतकालीन सत्र के दौरान पूर्व मुख्यमंत्री नारायण दत्त तिवारी को श्रद्धांजलि देने के बाद एक सनसनीखेज बयान दिया है। उनके ब्यान से पूरे सदन में खलबली मच गई।
कैबिनेट मंत्री डॉ. हरक सिंह रावत ने कहा कि 2003 में जैनी प्रकरण के बाद उन्होंने बीजेपी के साथ मिलकर एनडी तिवारी सरकार को गिराने की कोशिश की थी। उस समय 28 विधायक उनके साथ थे और सरकार को गिराने की पूरी तैयारी हो गई थी। हरक सिंह ने कहा कि वे जैनी प्रकरण के बाद काफी नाराज थे और बीजेपी के साथ एनडी तिवारी सरकार को गिराने की पूरी तैयारी कर ली थी। इसके लिए बीजेपी से भगत सिंह कोश्यारी ने प्रमोद महाजन को प्रदेश की पूरी राजनीतिक स्थिति बताई थी लेकिन पूर्व सीएम विजय बहुगुणा के हस्तक्षेप के बाद उन्होंने सरकार को गिराने का इरादा टाल दिया। इस बयान के बाद राजनीतिक गलियारों में नई चर्चा शुरू हो गई है क्योंकि 2016 में हरीश रावत सरकार को गिराने में भी हरक सिंह रावत की निर्णय भूमिका थी। अपने विवादित बयानों के कारण हमेशा चर्चाओं में रहे हरक सिंह रावत के ताजा बयान के कई राजनीतिक समीकरण निकाले जा रहे हैं। हालांकि, उन्होंने कहा कि इश प्रकरण के बाद विजय बहुगुणा उन्हें लेकर एनडी तिवारी के पास गए थे और तिवारी ने बड़ी सहजता के साथ पूरे मामले को सुलझाया था।
हिन्दुस्थान समाचार/अनिल