डायबिटीज़ के मरीजों के लिए संजीवनी है, एक पेड, वैज्ञानिकों ने की खोज

0
35

पंतनगर, डायबिटीज की बीमारी से अगर आप परेशान हैं तो ये खबर आपके लिए है, अब आप महज एक पौधे के रोजाना इस्तेमाल से अपना शुगर लेवल कंट्रोल कर सकते हैं। दरअसल, हल्दी बायोटेक के वैज्ञानिकों ने इस चमत्कारी पौधे की नर्सरी तैयार की है।

भारत ही नहीं बल्कि विश्वभर में मधुमेह के मरीजों की संख्या में दिनोंदिन इजाफा होता जा रहा है। विश्व में 70 फीसदी लोग डायबिटीज की बीमारी से ग्रसित हैं। ऐसे में लगातार अंग्रेजी दवाओं के सेवन से मरीजों के शरीर को भी नुकसान पहुंच रहा है। लेकिन उत्तराखंड के बायोटेक पंतनगर वैज्ञानिकों ने डायबिटीज का प्राकृतिक उपचार ढूंढ निकाला है।

पंतनगर के वैज्ञानिकों की टीम ने शुगर लेवल नियंत्रण करने वाले एक पौधे की नर्सरी तैयार की है। वैज्ञानिकों की मानें तो इसके रोजाना इस्तेमाल से 200 से 300 लेवल के शुगर को सामान्य बनाया जा सकता है। इसके लिए आपको सिर्फ सुबह और शाम दो पत्तों को खाना होगा, वैज्ञानिकों ने बताया कि, “अंडमान निकोबार, ग्रेटर सुंडा और मलाई द्वीप समूह में पाये जाने वाला कोस्ट सी प्रजाति के परिवार के कोस्टस स्पीशीज प्रजाति के पौधे तैयार की जा रही है।”

जैव प्रौद्योगिकी परिषद के सहायक निदेशक अमित पुरोहित ने बताया कि, “कोस्ट सी के पौधे की देशभर में 175 प्रजातियां पाई जाती हैं, इसमें से दो प्रजाति ऐसी हैं, जो औषधीय गुणों से भरपूर हैं।” अमित पुरोहित ने बताया कि, “दक्षिण एशिया और दक्षिण पूर्वी एशिया में इसकी व्यवसायिक खेती की जाती है, इस पौधे को औषधि के अलावा सजावट के लिए भी उपयोग में लाया जाता है।”

उत्तराखंड बायोटेक के वैज्ञानिकों द्वारा हल्दी पंतनगर में इसकी नर्सरी तैयार की जा रही है,  वैज्ञानिकों की मानें तो उत्तराखंड की जलवायु इस प्रजाति के पौधे के अनुकूल है। पहाड़ के किसान इस औषधीय पौधे की खेती करके अपनी आय बढ़ा सकते हैं। परिषद के सहायक निदेशक ने बताया कि, “डायबिटीज के अलावा खांसी, जुखाम, पेट के कीड़े, त्वचा संक्रमण, आखों का संक्रमण, दमा, गठिया बीमारियों में भी ये पौधा लाभदायक है।”

वहीं बायोटेक के वैज्ञानिक सुमित पुरोहित ने बताया कि, “डायबिटीज को खत्म करने वाले इस पौधे के पत्ते का स्वाद खट्टा-मीठा होता है, इसलिए इसका इस्तेमाल चटनी बनाने में भी किया जा सकता है। जैसे-जैसे सूबे में इस पौधे की डिमांड बढ़ेगी तो इसे टिश्यू कल्चर से तैयार किया जाएगा, वैज्ञानिकों की टीम अभी इसके पत्तों से प्रोडक्ट बनाने का भी प्रयास कर रही है।”

बहरहाल, औषधीय गुणों से भरपूर कोस्ट सी स्पीशीयस प्रजाति का ये पौधा डायबिटीज को कंट्रोल करने में कितना सहायक होगा ये तो आने वाला वक्त ही बताएगा. बावजूद इसके उत्तराखंड के किसानों और मधुमेह के मरीजों के लिए कोस्ट सी स्पीशीज प्रजाति का पौधा राम बाण साबित हो सकता है।