उत्तराखंड में स्वाइन फ्लू से एक और मौत, 15 हुई मरने वालों की संख्या

0
40

(देहरादून) स्वाइन फ्लू का वायरस लगातार कहर बरपा रहा है। ऐसा कोई दिन नहीं, जब यह वायरस किसी को अपनी चपेट में नहीं ले रहा। इतना ही नहीं स्वाइन फ्लू के कारण होने वाली मौतों का आंकड़ा भी लगातार बढ़ रहा है। राज्य में स्वाइन फ्लू पीड़ित एक और मरीज की मौत हो गई है।

जानकारी के अनुसार, हरिद्वार निवासी 37 वर्षीय महिला को कुछ दिन पहले देहरादून के श्री महंत इंदिरेश अस्पताल में भर्ती कराया गया था। उन्हें सांस लेने में दिक्कत, तेज बुखार आदि की समस्या थी। जहां उन्होंने दम तोड़ दिया। प्रदेश में अब तक स्वाइन फ्लू से 15 मरीजों की मौत हो चुकी है। इनमें अकेले श्री महंत इंदिरेश अस्पताल में 12 मरीजों की जान जा चुकी है।

यह बात अलग है कि स्वास्थ्य महकमा स्वाइन फ्लू के बढ़ते कहर पर पर्दा डालने की कोशिश कर रहा है। शायद यही वजह कि डेथ ऑडिट कर यह साबित करने की पूरी कोशिश की की गई है कि जिन मरीजों की मौत स्वाइन फ्लू से हुई है वह पहले ही किसी अन्य बीमारी से जूझ रहे थे। यही नहीं, जिस अस्पताल में एक के बाद एक मरीजों की मौत हो रही है, उसको भी स्वास्थ्य महकमा लगभग क्लीन चिट दे चुका है।

मुख्य चिकित्साधिकारी कार्यालय से प्राप्त जानकारी के अनुसार बुधवार को तीन और नए मरीजों में स्वाइन फ्लू की पुष्टि हुई है। इनमें दो मरीज देहरादून व एक मरीज हरिद्वार का रहने वाला है। तीनों का उपचार श्री महंत इंदिरेश अस्पताल में चल रहा है।

कुल मिलाकर प्रदेश में एक माह से भी कम समय में स्वाइन फ्लू का वायरस 51 लोगों को अपनी चपेट में ले चुका है। इनमें से 15 मरीजों की मौत उपचार के दौरान हो चुकी है। बीस से अधिक मरीज शहर के अलग-अलग अस्पतालों में भर्ती हैं।

इधर, सिनर्जी अस्पताल में भी बुधवार को स्वाइन फ्लू के एक संदिग्ध मरीज की मौत हो गई है। हालांकि इसकी रिपोर्ट आनी बाकी है। रिपोर्ट आने के बाद ही स्पष्ट होगा कि मरीज की मौत का कारण स्वाइन फ्लू था या कुछ और। बहरहाल, स्वास्थ्य विभाग एडवाइजरी पर एडवाइजरी जारी कर रहा है और स्वाइन फ्लू लगातार कहर बरपाता जा रहा है। ऐसे में विभाग की कार्यप्रणाली पर भी अब सवाल उठ रहे हैं।

स्वाइन फ्लू पर जागरूक किया

स्वाइन फ्लू के बढ़ते खतरे को देखते हुए प्रोटेक्टर एक्शन सोसायटी ने स्कूली बच्चों को मास्क और हैंड सैनिटाइजर बांटे। संस्था के महासचिव राहुल रावत के नेतृत्व में एक दल ने कन्या उच्चतर माध्यमिक विद्यालय, माजरा में प्रधानाचार्य समीरा देवली के सहयोग से छात्राओं को जागरूक किया। इस दौरान नियति, नितिन बहुगुणा, कौश्तुभ काला, दीपक सिंह आदि उपस्थित रहे।